ख़बरदेश

चमकी बुखार की चपेट में सत्ताधारी नेता, कैमरा देखते ही छा जाता सन्नाटा

बिहार के नेताओं पर भी चमकी बुखार का असर हो गया है। बुखार का इफेक्ट ऐसा हुआ है कि नेताओं के मुंह बंद होने की क्रिया में तेजी आ गई है। हर मुद्दों पर बोलने वाले बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी पर तो चमकी बुखार ने ऐसा असर डाला है कि वे पिछले कई दिनों से चुप हो गए हैं। काफी कुरेदने और पीछा करने पर भी उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकल रहा।

सुशील मोदी से अबतक कई बार चमकी बुखार से जुडा सवाल पूछा गया, लेकिन उनके मुंह से बेबस परिवार के लिए एक शब्द भी नहीं निकल रहा।चमकी बुखार नामक शब्द से उन्हें ऐसी एलर्जी हो गयी है कि सुनते ही नाक-भौं सिकोड़ ले रहे हैं ।

ऐसा ही हाल सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का है। चमकी बुखार ने स्वास्थ्य मंत्री पर ऐसा प्रभाव डाला है कि वो मुंह हीं नहीं खोल रहे। इस रोग का सईड इफेक्ट ऐसा हुआ है कि मीडिया को देखते हैं ये दोनों नेता सबसे अधिक टेंशन में आ जा रहे हैं और किसी तरह से पिंड़ छुड़ाने की कोशिश करते दिखते हैं।

बिहार में चमकी बुखार से मर रहे मासूमों की मौत का इफेक्ट बीजेपी की सहयोगी दल लोजपा पर भी पड़ा है। उनके नेता भी चमकी बुखार पर चुप रहना ही मुनासिब समझ रहे हैं। आज जब रामविलास पासवान और उनके पुत्र चिराग पासवान एयरपोर्ट पर पहुंचे तो मीडिया को देखते हैं उन्हें लगा कि जरूर चमकी बुखार से संबंधित कुछ पूछ दिया जाएगा। बस फिर क्या था दोनों बाप-बेटे ने मौनी रूप धारण कर लिया। बगैर एक शब्द बोले निकल लिए।

हालांकि चिराग पासवान चमकी बुखार पर बोलें तो क्या बोलें …एक तरफ बिहार के मासूम मर रहे हैं तो वहीं 3 दिन पहले गोवा में मस्ती करते उनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है। कांग्रेस नेताओं ने खुलेआम उनके मस्ती वाली तस्वीर को सोशल मीडिया पर शेयर भी किया था। शायद इसी डर से रामविलास-चिराग ने मीडिया को देखते ही मुंह को पूरी तरह से बंद रखने में ही भलाई समझी।

Back to top button