वास्को डि गामा एक्सप्रेस की 13 बोगियां पटरी से उतरी, 3 की मौत, 10 घायल

उत्तर प्रदेश में रेल हादसे थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. आज सुबह तड़के एक रेल हादसा चित्रकूट में हुआ है. चित्रकूट के मानिकपुर में वास्को डी गामा एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई है. शुरुआती जानकारी के मुताबिक, ट्रेन के 13 डिब्बे पटरी से उतरे हैं. ट्रेन गोवा के मडगांव स्टेशन से चलकर पटना जा रही थी. हादसे में 3 लोगों की मौत हुई है जबकि 10 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. हादसा रेलवे ट्रैक के टूटने वजह से हुआ. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी भी मौके पर पहुंचे हैं और राहत-बचाव का काम जारी है.

Advertisement

चित्रकूट के डीएम ने बताया कि ट्रेन वास्को डि गामा से पटना जा रही थी. पुलिस अधीक्षक प्रताप गोपेंद्र ने भी 3 लोगों की मौत की पुष्ट‍ि की है. सीपीआरओ गौरव कृष्ण बंसल का कहना है कि मानिकपुर स्टेशन से सुबह 4:18 बजे प्लेटफॉर्म नंबर 2 से निकलते ही ट्रेन के 13 डिब्बे पटरी से उतर गए. हादसे की सूचना पाते ही इलाहाबाद से मेडिकल टीम रवाना हो गई है और राहत व बचाव कार्य चल रहा है. साथ ही मेडिकल वैन को रवाना किया गया है.

advt

 

मृतकों के परिजनों के रेलवे से 5-5 लाख देने का ऐलान

हादसे में मरने वालों के परिजनों को रेलवे ने 5-5 लाख की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. साथ ही गंभीर रूप से घायलों को एक लाख और मामूल रूम से घायलों को 50-50 हजार रूपए का मुआवजा दिया जाएगा. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने हादसे पर दुख जताते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं.

सहायता हेल्पलाइन नंबर जारी 

शुरुआती जानकारी में पटरियों में फ्रैक्चर की बात सामने आ रही है. रेलवे के मुताबिक, स्लीपर बोगियों में अधिक नुकसान हुआ है. घायल लोगों को चित्रकूट और आस-पास के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. घटना के बाद रेलवे ने 05322226276 और चित्रकूट पुलिस ने  05198236800 हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं.

सीपीआरओ गौरव कृष्ण बंसल के मुताबिक, हादसे में किसी की मौत नहीं हुई है. 10 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. बंसल के अनुसार राहत कार्य शुरू कर दिया गया है. रेल में पुरानी तकनी क से बने ICF कोच थे इसी वजह से डिब्बे एक के ऊपर एक चढ़ गए. अगर कोच जर्मन तकनीक से बने एलएचबी होते तो हादसे के स्केल को कम किया जा सकता था.

हादसे में बिहार के बेतिया के रहने वाले रामस्वरूप पटेल और उनके बेटे दीपक पटेल की मौत हुई है. चश्मदीदों के मुताबिक मानिकपुर स्टेशन पर ट्रेन का स्टॉप नहीं था और सतना से निकलकर मानिकपुर से गुजरते वक्त यह हादसा हुआ. रेलवे के मुताबिक क्रेन की मदद से पटरी पर पड़े डिब्बों को हटाने का काम किया जा रहा है.

मालगाड़ी पटरी से उतरी

ओडिशा जगतसिहं पुर में भी आज गुआली रेलवे स्टेशन से पास एक मालगाड़ी पटरी से उतर गई. बताया जा रहा है कि मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतरने के बाद रूट पर ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित हुई है. हादसे में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है.

लगातार हो रहे रेल हादसे

अगस्त महीने में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बड़ा रेल हादसा हुआ था. पुरी से हरिद्वार जा रही कलिंग उत्कल एक्सप्रेस ट्रेन मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास पटरी से उतर गई थी. ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतरकर अगल-बगल के घरों और एक स्कूल में घुस गए. ये ट्रेन पुरी से हरिद्वार जा रही थी. हादसा 19 अगस्त शनिवार की शाम 5 बजकर 46 मिनट पर हुआ था. इस हादसे में 23 लोगों की मौत हो गई थी.