वसीम रिजवी का बड़ा बयान, कमलेश की हत्या के दूसरे दिन मैं था टार्गेट

0
37

लखनऊ । उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने शुक्रवार का अपना बयान जारी किया है। इसमें उन्होंने कहा कि लखनऊ में कमलेश तिवारी की हत्या के दूसरे दिन ही मेरा दिल्ली में अपहरण का प्रयास हुआ था। इससे पहले मोबाइल पर कितनी धमकियां मिली थी।

रिजवी ने अपने बयान में कहा है कि श्री राम की पैरवी, मदरसों में आतंकी शिक्षा का विरोध, राम जन्मभूमि पर बनायी गयी फिल्म और मोहम्मद साहब की तीसरी बीबी आयशा पर बनायी जायी रही फिल्म को लेकर पूरी दुनिया का अपराध से जुड़ा मुसलमान मेरा दुश्मन बन गया है। कमलेश तिवारी की हत्या तुरंत बाद मुझे व्हाटसएप पर धमकियां दी गयी। उससे पहले भी मेरा सिर काटने के लिए मुम्बई के मौलाना ने फतवा जारी किया था। कई सौ धमकियां भरे फोन आए, जिसकी सूचना मैने लखनऊ पुलिस को दी थी। उसकी शायद जांच चल रही है।

उन्होंने यह भी बताया कि कमलेश की हत्या के दूसरे दिन 19 अक्टूबर को ही मेरा दिल्ली में अपहरण का प्रयास हुआ था। उस प्लानिंग में भी गुजरात का एक मुसलमान शामिल था। हमने सारी जानकारी इकट्ठा करके दिल्ली कमिश्नर ऑफ पुलिस को भेज दी है।

वसीम रिजवी ने कहा कि कटरपंथी मुसलमान किसी का गला काटने को इस्लाम की सजा समझते है। इसीलिये वह हमेशा गला काटने का कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा हम बस इतना ही कहना चाहते है कि दुनिया के हैवानों की तरक्की तो देखिए जब इंसान न बन सके तो मुसलमान बन गए।