राजनीति

गुजरात में कैसे आगे बढ़ेगी कांग्रेस, अब तो अल्पेश ने भी पाला बदल लिया

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को उत्तर प्रदेश के अमेठी से अपना नामांकन कर रहे है । उनके साथ उनकी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी मौजूद है। लोकसभा चुनाव 2019 के प्रथम चरण के लिए शुक्रवार को वोट डाले जाएंगे। पहले चरण में कुल 20 राज्यों की 91 सीटों पर मतदान होना है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को अमेठी संसदीय क्षेत्र से अपना नामांकन दाखिल किया।

इस बीच एक बड़ी खबर ने कांग्रेस में भूचाल सा आ गया बताते चले चुनाव से पहले कांग्रेस को तगड़ा झटका लग है |गुजरात के ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए पार्टी को छोड़ दिया है। अल्पेश ठाकोर के करीबी धवल झाला ने इस बात की पुष्टि की है।

बता दें कि एक महीने पहले ही अल्पेश ठाकोर की ओर से इस तरह की खबरों का खंडन किया गया था कि वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा था कि वह ठाकोर समुदाय के अधिकार के लिए अपनी लड़ाई को जारी रखेंगे और वह कांग्रेस के साथ ही रहेंगे।

बता दें कि 11 अप्रैल यानी गुरुवार से से लोकसभा चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान होने जा रहा है। इससे ठीक एक दिन पहले बुधवार को ठाकोर ने पार्टी से इस्तीफा देकर कांग्रेस को यहां करारा झटका दिया है।

बीजेपी में जानें की हैं अटकलें
दरअसल, अल्पेश काफी समय से कांग्रेस से नाराज बताए जा रहे थे। पिछले महीने ही उनके बीजेपी में जाने की चर्चा तेज हुई थी। हालांकि तब इस ओबीसी नेता ने कहा था कि वह ठाकोर समुदाय के लोगों के हित की लड़ाई लड़ते रहेंगे। इस दौरान उन्होंने बीजेपी में जाने की अटकलों को खारिज करते हुए दो टूक कहा था कि वह अभी कांग्रेस में हैं और बने रहेंगे। बता दें कि कुछ दिन पहले ही पाटीदार नेता हार्दिक पटेल कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

कांग्रेस को बड़ा झटका

गौर करने वाली बात यह है कि गुजरात कांग्रेस के दो विधायक पहले भी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो चुके हैं। ऐसे में अल्पेश ठाकोर के कांग्रेस छोड़ने की खबर कांग्रेस के लिए बड़ा झटका साबित हो सकती है। सूत्रो के अनुसार अल्पेश ठाकोर प्रदेश में चार सीटों पर अपनी पसंद के उम्मीदवारों को कांग्रेस की ओर से टिकट देने की मांग कर रहे ते। ये चारों सीटें मेहसाणा, बनासकांठा, पाठण की है। लेकिन अल्पेश ठाकोर की इस मांग को कांग्रेस के आला कमान ने खारिज कर दिया।

2017 में थी अहम भूमिका

बता दें कि वर्ष 2017 में गुजरात के विधानसभा चुनाव के दौरान अल्पेश ठाकोर की भूमिका काफी अहम थी। पिछे कई सालों से सत्ता में काबिज भाजपा के खिलाफ कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी, इसमे अल्पेश ठाकोर ने उनका साथ दिया था। अल्पेश ठाकोर के कांग्रेस में शामिल होने से पार्टी को बड़ा फायदा मिला था। ऐसे में जिस तरह से चुनाव से ठीक पहले अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस का साथ छोड़ा है उसके बाद कयास लागए जा रहे हैं कि अल्पेश ठाकोर भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

Back to top button