उत्तर प्रदेश

उन्नाव कांड में बड़ा खुलासा : ट्रक मालिक की नंबर प्लेट मिटाने की दलील निकली झूठी

उन्नाव दुष्कर्म पीड़ित युवती की कार को टक्कर मारने के आरोपित ट्रक चालक और क्लीनर से पूछताछ के लिए सीबीआई को तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर दिए जाने की मंजूरी मिल गई है। सीबीआई की ओर से लोक अभियोजक रामबाबू कन्नौजिया ने आरोपितों को सात दिन के लिए पुलिस कस्टडी में दिए जाने की मांग करते हुए अर्जी दाखिल की थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया।

इस बीच उन्नाव दुष्कर्म केस में उन्नाव रेप पीड़िता केस की जांच सीबीआई  ने तेज़ी से शुरू कर दी है, वही इस घटना पर रोज नए -नए खुलाशे भी हो रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार बताते चले कार को टक्कर मारने ट्रक मालिक ने कहा था फाइनेंस कंपनी से बचने के लिए नेम प्लेट पर लगाई थी ग्रीस, जो सरासर झूठ निकली। मीडिया ने फाइनेंस कंपनी के मैनेजर से इस मामले पर बात की तो उन्होंने अपनी जानकारी देते हुए बताया कि कंपनी अपने ग्राहकों को कभी परेशान नहीं करती। ट्रक मालिक अच्छे ग्राहक हैं और उनके एक ट्रक की एनओसी भी दे दी गई है।

‘देवेंद्र किशोर समय से चुका रहे हैं सारी EMI’
कलेक्शन मैनेजर ने नाम न उजागर करने की शर्त पर कहा, “हमने देवेंद्र किशोर के तीन ट्रकों का फाइनेंस किया है. उन्होंने हाल ही में अपने एक ट्रक का पूरा लोन चुकाया है और बाकी दो ट्रकों की ईएमआई वो समय से भर रहे हैं।” कलेक्शन  मैनेजर ने आगे जानकारी देते हुए कहा की  ‘देवेंद्र ईएमआई भरने में एक बार भी लेट नहीं हुए हैं. ऐसे में उन्होंने अपने ट्रक की नंबर प्लेट पर काली स्याही क्यों पोती थी, इसकी कोई और वजह हो सकती है।’

ट्रक मालिक ने ये दिया था तर्क

मालिक ने पूरे मामले पर मीडिया से बातचीत के दौराज बताया था कि ट्रक पर फाइनेंसर के काफी पैसे बकाया हैं। फाइनेंसर सड़क पर ट्रक की पहचान न कर सके इसलिए नंबर प्लेट पर ग्रीस लगा दिया गया था। हलांकि पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच कर रही है। चालक और परिचालक को पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन जिस तरह से फाइनेंस कंपनी के जीएम ने ट्रक मालिक के झूठ से पर्दा उठाया, उससे उनकी मुसीबत बढ़ सकती हैं। क्योंकि सीबीआई किसी भी वक्त फाइनेंस कंपनी आकर जांच-पड़ताल कर सकती है।

सीबीआई की टीम अब आरोपितों से पूछताछ के अलावा घटनास्थल पर ले जाकर मौका मुआयना कर रही है । जबकि आरोपित विधायक कुलदीप सेंगर से जेल में पूछताछ करने की सीबीआई को इजाजत पहले ही मिल चुकी है। इसके अलावा पीड़िता के चाचा से भी सीबीआई पूछताछ करेगी।

 

ट्रामा सेंटर पहुंची सीबीआई की टीम 

रायबरेली सड़क हादसे की जांच कर रही सीबीआई की एक टीम शनिवार को लखनऊ के ट्रामा सेंटर पहुंची, जहां उन्होंने घायलों का हालचाल जाना और घटना को लेकर परिजनों से पूछताछ की।

उल्लेखनीय है कि उन्नाव से भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़ित युवती की कार का एक्सीडेंट बीते रविवार को हुआ था। वह अपनी चाची, मौसी और अधिवक्ता के साथ जेल में बंद चाचा से मिलने रायबरेली जा रही थी। इस हादसे में पीड़ित युवती की चाची और मौसी की मौके पर ही मौत हो गई थी, जबकि वो खुद और उसका वकील महेंद्र सिंह चौहान गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिनका इलाज लखनऊ के केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है।

Back to top button