पूर्व BJP मंत्री का भद्दा बयान, बोले-RSS वालों को जब महिलाएं नहीं मिलतीं तो…

0
49

मध्य प्रदेश के हनी ट्रैप मामले में गिरफ्तार आरोपित श्वेता स्वप्निल जैन का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें वह शिवराज सरकार में मंत्री रहे लक्ष्मीकांत शर्मा के साथ दिखाई दे रही हैं। इस वीडियो में शर्मा शिवराज और RSS की पोल खोलते नज़र आ रहे हैं। हालांकि इस वीडियो की पुष्टी नहीं हुई है।

वीडियो में लक्ष्मीकांत 2013 के विधानसभा चुनाव के पहले की चर्चा करते नजर आ रहे हैं, तब वह शिवराज सरकार में जनसंपर्क मंत्री थे। प्रचार के दौरान पोस्टरों में नरेंद्र मोदी के फोटो पर वह शिवराज की नाराज़गी का जिक्र कर रहे हैं। वे शिवराज के परिवार पर भी आरोप लगाते दिख रहे हैं।

वीडियो में वह कहते हैं कि “शिवराज बहुत बदमाश है। शिवराज की पत्नी भयंकर करप्ट है। मैं एक-एक की जन्मपत्री जानता हूं। वह कहते हैं कि ‘राजनीति में आदमी पहले अपना दामन बचाता है। ये शिवराज सिंह बहुत बड़े मतलबी हैं। राजनीति को तो वेश्या का रूप माना जाता है। जब तक संबंध है, तब तक हैं। राजनीति में सब भ्रष्ट हैं।

इस दौरान वह आरएसएस पर भी गंभीर आरोप लगाते हैं। लक्ष्मीकांत RSS के लोगों को समलैंगिक बताते हुए कहते हैं कि आरएसएस वालों को जब महिलाएं नहीं मिलतीं तो लड़कों से ही संबंध बना लेते हैं।

बातचीत में लक्ष्मीकांत व्यापमं घोटाले का ज़िक्र भी करते नज़र आ रहे हैं। मामले में कह रहे हैं कि मैंने जहर का घूंट पी लिया, लेकिन किसी को नहीं फंसाया। पार्टी मेरी मां है, उससे कभी गद्दारी नहीं करूंगा। मैं राजनीतिक वफादारी के चलते जेल गया।

बता दें कि शर्मा मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापमं घोटाला मामले में जेल जा चुके हैं। शर्मा को 7 मामलों में आरोपी बनाया गया था और उन्हें एसटीएफ ने 16 जून, 2014 को गिरफ्तार किया था। तभी से वह भोपाल की केंद्रीय जेल में बंद थे। इस दौरान उन्हें बीजेपी ने सदस्यता से भी निष्कासित कर दिया था।

2015 में लक्ष्मीकांत शर्मा को इस मामले में ज़मानत मिल गई थी। शर्मा के वायरल हुए वीडियो को 2015 का ही बताया जा रहा है। हालांकि इस बात की पुष्टी अभी नहीं हो सकी है। फिलहाल इस वीडियो के बारे में लक्ष्मीकांत शर्मा की ओर से कोई बयान सामने नहीं आया है। फिलहाल हनी ट्रैप मामले की जांच कर रही एसआईटी ने इस वीडियो की पड़ताल शुरु कर दी है।

जब हनीट्रैप कांड उजागर हुआ था, उस वक्त कहा गया था कि इससे कई बीजेपी नेताओं के राज़ फाश हो सकते हैं। आरोपियों ने मध्यप्रदेश के एक पूर्व सीएम को भी ब्लैकमेल किया था। अंत पीछा छुड़वाने के लिए पूर्व सीएम एक अरोपी को भोपाल के पॉश इलाके में फ्लैट भी दिलवाना पड़ा था। साथ ही एक सांसद को भी आरोपियों ने ब्लैकमेल किया है। वीडियो में सामने आने के बाद प्रदेश में बीजेपी की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।