उत्तर प्रदेश

आजम का नया बतोला- किताब चोर कहलाना मेरे लिए सम्मान की बात !

उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है. आजम खान इन दिनों रामपुर स्थित अपनी जौहर यूनिवर्सिटी के लिए नाजायज तरीके से भूमि अधिग्रहण के विवाद को लेकर चर्चा में हैं. उनके ऊपर जमीन की चोरी से लेकर किताबों की चोरी तक के आरोप लग रहे हैं. तो वहीं पिछले 2 दिनों से उनके बेटे अब्दुल्ला आजम और सपा के कार्यकर्ता रामपुर में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इस सियासी गहमागहमी के बीच आजम खान ने एक निजी वेबसाइट से बात करते हुए बड़ा बयान दिया है.

जौहर यूनिवर्सिटी के लिए किताब चोरी करने के आरोपों का जवाब देते हुए आजम खान ने कहा कि मैं अगर किताब चोर हूं तो बहुत बड़े-बड़े लोगों ने किताबें चुराई हैं. किताब चोरी का लंबा इतिहास रहा है.

आजम बोले कि, नरेंद्र मोदी को चौकीदार चोर है कहा गया तो वह दोबारा पीएम बन गए. मुझे किताब चोर कहा जा रहा है. इस शब्द को अपने लिए बेहद सम्मान की बात मानता हूं. मैंने किताब चुराकर अगर यूनिवर्सिटी बनाई है तो मैं अपने मालिक से दुआ करूंगा कि यह आरोप मेरे साथ मेरी कब्र में जाए.

लगातार सीबीआई और ईडी की रेड से घिरे आजम खान ने कहा कि मेरा लोकसभा चुनाव लड़ना और जीतना दो सरकारों के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया. रामपुर में अभी असेंबली के उपचुनाव होने हैं. लोकसभा चुनाव जीत नहीं सके तो वहां के एसपी और डीएम ने इन्हें उपचुनाव जिताने का वादा किया है. इसलिए रामपुर को ‘दूसरा कश्मीर’ बनाने की कोशिश हो रही है.

 

Back to top button