देश

ठेले पर मरीज और कूड़ेदान में आयुष्मान योजना के कार्ड, ऐसे होता है गरीबों का सरकारी इलाज

भले ही आम जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सरकार  तमाम योजनाएं चला रही हो. लेकिन, विभागीय स्तर पर बहुत ज्यादा लापरवाही बरती जा रही है. इसका अंदाजा यूपी के जौनपुर के में कूड़ेदान में फेंके मिले आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना कार्ड से लगाया जा सकता है. वहीं, दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति एम्बुलेंस सुविधा नहीं मिलने पर मरीज को खाट सहित ठेले पर लादकर अस्पताल पहुंचाता नजर आ रहा है. यह वीडियो शामली  जिले के सिविल अस्पताल है.

दरअसल, बीते 19 जून की दोपहर को जौनपुर जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर सुबह 11:00 बजे अस्पताल के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. जैसलाल और एक कर्मचारी के बीच किसी मामले को लेकर मरीजों के सामने ही नोंक झोक होने लगी. जिसके बाद अस्पताल परिसर में भीड़ इकट्ठा हो गई. इसी दौरान किसी कर्मचारी ने अस्पताल के दूसरे तल पर स्थित एक कूड़ेदान में सैकड़ों की संख्या में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के फेंके होने की बात कही. स्वास्थ्य कार्ड फेंके मिलने की जानकारी होते ही कर्मचारियों के होश उड़ गए. साथ ही सीएचसी (CHC) परिसर में हड़कंप मच गया.

किसी ने सीएमओ डॉ. रामजी पांडेय को इस बात की सूचना दी और उन्होंने डीएम को इसकी जानकारी दी. डीएम अरविंद मलप्पा बंगारी के निर्देश पर विभागीय कार्रवाई करते हुए प्रकरण पर जांच के लिए तीन सदस्यी जांच कमेटी बनाई गई है. रिपोर्ट के आधार पर प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने 2 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है.

प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी ने चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जैसलाल को निलंबित कर दिया है. जबकि डेंटल हाईजनिस्ट विपनेश एस कुमार सिंह का ट्रांसफर ललितपुर के लिए कर दिया गया है. अब आगे की जांच पुलिस करेगी.

Back to top button