जेल से जब बाहर आया छेड़खानी करने वाला, पीड़िता को दौड़ा-दौड़ाकर हंसिए से काट डाला

0
35

छत्तीसगढ़ के कोरबा में छेड़खानी और अश्लील हरक़त करने के आरोपित ने जेल से बाहर आने के कुछ दिन बाद ही शुक्रवार को पीड़िता को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा और हंसिये से एक के बाद एक वार से उन्हें लहूलुहान कर दिया। मौके पर मौजूद लोगों ने आरोपित को पकड़कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। हमलावर कुछ दिनों पहले ही जेल से ज़मानत पर बाहर आया था। उसके बारे में पता चला है कि उसने पीड़िता का आपत्तिजनक वीडियो बनाकर उसे वायरल भी किया था।

यह मामला शहर के बुधवारी-खपराभट्‌टा मोहल्ला का है। सीएसईबी चौकी क्षेत्र में बुधवारी के गाँधी चौक के पास कुछ महीने पहले मुंगेली के लोरमी क्षेत्र की एक महिला परिवार समेत किराए पर रहती थी। वहीं लोरमी का ही इंद्रपाल टोंडे (40) भी आकर किराए पर रहने लगा। महिला से एक तरफा प्यार के चक्कर में उसने नजदीकियाँ बढ़ानी शुरू कर दी।

महिला उसकी रोज़-रोज़ की हरक़तों से काफ़ी तंग आ चुकी थी। इसलिए परेशान वो अपने परिवार समेत बुधवारी के ही खपराभट्‌टा क्षेत्र में जाकर किराए पर रहने लगी। इसके बाद हुआ यह कि सितंबर के महीने में इंद्रपाल भी पास ही किराए का मकान लेकर रहने लगा और उसने फिर से अपनी पुरानी हरक़तों को दोहराना शुरू कर दिया। इससे वो महिला परेशान रहने लगी थी।

हद तो तब पार हो गई जब अक्टूबर में आरोपित इंद्रपाल ने अपने मोबाइल से महिला का उस समय वीडियो बना लिया जब वो अपने आंगन में नहा रही थी। वीडियो बनाने के बाद उसने बेशर्मी की सारी हदें पार करते हुए उसे सोशल मीडिया पर वायरल भी कर दिया। इस बारे में जब महिला को पता चला तो उसने इंद्रपाल से उस वीडियो को हटाने के लिए कहा, लेकिन वो नहीं माना।

इसके बाद पीड़ित महिला ने इंद्रपाल के ख़िलाफ़ पुलिस में शिक़ायत दर्ज करा दी। पुलिस ने आरोपित को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया। कुछ दिनों पहले ही वो ज़मानत पर बाहर आया था। लेकिन, वो बदले की भावना से अंदर ही अंदर जल रहा था और उसके मन में महिला के लिए ज़हर भरा हुआ था। इसलिए उसने शुक्रवार की सुबह जब महिला घर में अकेली थी, हंसिए से उस पर हमला कर दिया।

महिला बचने के लिए मोहल्ले में भागी लेकिन इंद्रपाल उसके पीछे हंसिया लेकर दौड़ता रहा और मौक़ा पाते ही महिला पर ताबड़तोड़ वार करता रहा। जानकारी के अनुसार, पुलिस ने आरोपित को गिरफ़्तार कर लिया था। उसे कोर्ट में पेश किया गया। यहाँ से मजिस्ट्रेट के आदेश पर जेल भेज दिया गया है।