बागी हुए केजरीवाल के विधायक, कलह से AAP पर टूटने का संकट

अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी पर सबसे बड़ा संकट मंडरा रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री के कई विधायक बागी हो गए हैं. खबर है कि इस बगावत के चलते पार्टी टूट भी सकती है. केजरीवाल के लिए राहत की बात बस इतनी है कि इस बगावत से उनकी सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि बगावत का झंडा बुलंद करने वाले आप विधायक पंजाब से हैं. पार्टी में इस कलह की वजह है अकाली नेता बिक्रम मजीठिया से केजरीवाल का माफीनामा.

क्या टूट जाएगी आप

केजरीवाल को अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगना बेहद भारी पड़ गया है. हालात ये हो गए हैं कि पंजाब में आम आदमी पार्टी टूट की कगार पर पहुंच गई है. इन नाराज विधायकों को मनाने के लिए उनको केजरीवाल ने दिल्ली बुलाया, लेकिन पंजाब के आम आदमी पार्टी विधायकों ने दिल्ली आने से इंकार कर दिया है. उन्होंने उल्टे अरविंद केजरीवाल को ही चंडीगढ़ आकर बात करने को कहा है.

दरअसल पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान केजरीवाल ने शिरामणि अकाली दल नेता बिक्रम सिंह मजीठिया के ड्रग माफिया के साथ संबंध होने का आरोप लगाया था. इसके बाद मजीठिया ने अरविंद केजरीवाल, संजय सिंह और आशीष खेतान के खिलाफ अमृतसर कोर्ट में मानहानि का मुकदमा कर दिया था. गुरुवार शाम को मजीठिया ने केजरीवाल का माफीनामा ट्वीट कर जानकारी दी कि केजरीवाल ने अपने आरोपों पर उनसे माफी मांग ली है और उन्होंने भी केजरीवाल को माफ कर दिया है.

लेकिन अब केजरीवाल की इसी माफी पर आम आदमी पार्टी की पंजाब यूनिट में आर-पार की नौबत आ गई है. आप में आए इस अंदरूनी भूचाल के बाद भले ही विधायकों को समझाने-बुझाने की कवायद तेज है. लेकिन लगता नहीं कि विधायक आसानी से मानने वाले हैं. खबर तो ये भी है कि पंजाब के ज्यादातर आप विधायक अलग पार्टी बनाने की भी सोच रहे हैं