मायानगरी

राज की बात : अक्षय की ‘मिशन मंगल’ में ऐसे रिक्रिएट किया गया ISRO

अक्षय कुमार की अपकमिंग स्पेस ड्रामा फिल्म ‘मिशन मंगल’ के प्रोडक्शन डिजाइनर संदीप शरद रावडे ने एक न्यूज पोर्टल के साथ हुई बात-चीत में यह खुलासा करते हुए बताया की किस तरह उन्होंने फिल्म के सेट को तैयार करते हुए ISRO को उसमें रिक्रिएट किया है.

संदीप ने बताया कि वह कभी ISRO नहीं गए. जिस दिन उनका वहां जाने का अपॉइंटमेंट था. उसके ठीक एक दिन पहले ही वह कैंसिल हो गया था. लेकिन फिल्म के डायरेक्टर जगन शक्ति ने ISRO का दौरा अपनी प्रोडक्शन टीम के साथ कई बार किया था. उनकी बातचीत, पुस्तकों और गूगल रिसर्च के आधार पर उन्होंने फिल्म सिटी में सेट का निर्माण किया. उन्होंने बताया कि उपग्रहों को बनाना सबसे बड़ा काम था.

संदीप ने खुलासा किया कि दर्शकों को स्क्रीन पर जो भी दिखाई देगा उसका नब्बे परसेंट हिस्सा डिजाइन टीम द्वारा बनाया गया है. उन्होंने आगे कहा ‘हमें इसरो को बनाना था न कि नासा को ऐसे में हमें इसे ब्रीफ, सरल और वास्तविक भी बनाए रखना था. हमारे पास रियल 145 फीट के रॉकेट के लिए पर्याप्त बड़ा स्टूडियो नहीं था, इसलिए हमने 27 फीट की नोज और 18 फीट की टेल बनाई और बांकी दृश्य विजुअल हैं’.

मिशन मंगल’ भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिकों की कहानी पर आधारित है, जिन्होंने साल 2014 में मार्स ऑर्बिटर मिशन में योगदान दिया था. फिल्म में विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, कृति कुल्हारी, निथ्या मेनन और शरमन जोशी भी हैं. फिल्म आगामी 15 अगस्त को सिनेमाघरों में प्रदर्शित होगी.

Back to top button