अखिलेश मेरे राजनीतिक दुश्मन, मौका मिला तो छोड़ूंगा नहीं: अमर सिह

अमर सिंह

नईं दिल्ली। दो बार दूध का जला हूं, इसलिए सपा से मेरा अब दूर-दूर तक भी कोईं संबंध नहीं रहेगा। रहा सवाल अखिलेश यादव का तो वो मेरे राजनीतिक दुश्मन हैं। मौका मिलेगा तो उन्हें छोड़ूंगा नहीं। ये कहना है राज्यसभा सदस्य और समाजवादी पाटा (सपा) के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव अमर सिह का।

Advertisement

क्या अमर सिह 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए फिर सपा का दरवाजा खटखटाएंगे? जवाब में दिल के दर्द का इजहार करते हुए उन्होंने कहा, ठ इसका तो अब सवाल ही नहीं उठता। जब मेरी तस्वीरों पर पेशाब किया गया, मुझे गाली दी गईं।

advt

 

मुझे बाहरी भी कहा गया तो अब गुंजाइश ही कहां बचती है। जब बात घर के अंदर रहती है तो ठीक है, लेकिन बाहर आने पर कोईं गुंजाइश नहीं बचती। अमर सिह की नाराजगी अखिलेश यादव से है या रामगोपाल यादव से, इस बारे में उनका कहना है, ठमेरी नाराजगी मुलायम सिह यादव से है। क्योंकि मेरी और शिवपाल सिह यादव की निष्ठा मुलायम में थी। हम दोनों को कष्ट भोगना पड़ा। लेकिन आखिरकार बेटे की मुहब्बत में सबको निपटाने वाले मुलायम खुद बेटे से निपट गए।

शिवपाल से मेरे संबंध कल थे, आज हैं और आने वाले कल में भी रहेंगे। लेकिन मुलायम सिह से मैं अब बात नहीं करता हूं। क्योंकि उन्होंने खुद मुझसे कहा था कि अमर सिह हमारे बेटे अखिलेश, रामगोपाल यादव और आजम खान को तुमसे परेशानी है। इसलिए तुम हमसे मत मिला करो।

तो सच मानिए उस दिन का दिन है और आज का, मैं कभी न तो मुलायम सिह से मिला और न ही उनसे बात की।अखिलेश अगर अमर सिह से सीएम बनने का आशावाद मांगते हैं तो क्या देंगे? अमर सिह ने कहा, ठहरगिज नहीं, उन्हें यशस्वीभव तो बोल सकता हूं, लेकिन विजयीभव नहीं। और बेहतर होगा कि अब वो घर पर रहकर हमारी बहु के साथ दाम्पत्य जीवन का सुख लें बस।