‘नदिया के पार’ की ‘गुंजा’ अब दिखती हैं कुछ ऐसी, पहचान पाना होगा मुश्किल

0
260

साल 1982 में आई फिल्म ‘नदिया के पार’ भले ही काफी समय हो गया है, पर इस फिल्म के सभी कलाकार आज भी सभी के दिलों में बसते हैं। फिल्म ‘नदिया के पार’ पर्दे पर काफी हिट हुई थी , जिससे कई कलाकारों का बहुत बढ़िया करियर भी बन गया था। इस फिल्म की कहानी को लोगों ने खूब पसंद किया था । इस फिल्म कि कहानी के तर्ज़ पर ही 90 के दशक में सलमान खान और माधुरी को लेकर हम आपके हैं कौन बनाई गयी थी । अब आप सोच रहे होंगे कि आज हम इस फिल्म कि बात क्यों करने लगे तो हम बताना चाहते है कि इस फिल्म ‘नदिया के पार’ कि एक अहम एक्ट्रेस के बारे में जो कि 37 सालों बाद ऐसी दिखती कि उन्हें पहचान नहीं पायेंगे ।

फिल्म ‘नदिया के पार’ में ‘गुंजा’ तो आपको याद होंगी न , उस गुंजा का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री का नाम साधना सिंह है। वह रहने वाली यूपी के कानपुर की हैं , जिन्हें असली पहचान फिल्म ‘नदिया के पार’ में गुंजा का किरदार निभाकर मिली थी। इस किरदार को निभाने के बाद साधना सिंह फिल्मों से काफी दूर हो गई और लाइमलाइट से तो बिल्कुल ही गायब सी हो गई ।

ऐसा बताया जाता है कि फिल्म ‘नदिया के पार’ की शूटिंग यूपी के जौनपुर के एक गांव में हुई थी, वंहा लोगों को गुंजा से काफी ज्यादा लगाव हो गया था और जब शूटिंग खत्म हो गई थी और साधना सिंह वंहा जाने लगी तो लोग काफी रोने लगें थे। उनके अपोजिट सचिन पिलगांवकर ने काम किया था जिसे लोगों ने बहुत प्यार दिया था ।

इस फिल्म में अपने किरदार और एक्टिंग से साधना सिंह ने सभी के दिलों में अपनी जगह बना ली थी , लोग उस किरदार से इतने प्रभावित हुए थे कि वह लोग अपनी बेटियों के नाम ‘गुंजा’ रखने लगे थे । ऐसा कहा जाता है कि 1982 में पैदा होने वाली लड़कियों में से अधिकांश लड़कियों का नाम गुंजा ही रखा जाता था, क्योंकि गुंजा उन दिनों लोगों के लिए रोल मॉडल थी।

गुंजा का किरदार निभाने वाली साधना सिंह कुछ ही फिल्म के बाद ही इंडस्ट्री से दूर हो गई। उन्होंने ‘ससुराल’ (1984), ‘पिया मिलन’ (1985), ‘पापी संसार’ (1985) और ‘फलक’ (1988) जैसी फिल्मों में काम किया था , जिसमें उन्हें सबसे ज्यादा लोकप्रियता फिल्म ‘नदिया के पार’ से ही मिली थी। फिल्मों से दूर होने की वजह पर साधना सिंह ने बताया था कि उन्हें कहीं काम नहीं मिल रहा था इसीलिए उन्होंने अपने घर परिवार को संभालने का फैसला किया था ।