AAP पार्टी में घमासान: विधायक पद के इस्तीफा देंगी अलका लांबा

0
24

AAP MLA Alka Lamba

दिल्ली विधानसभा ने शुक्रवार को एक नया विवाद शुरू हो गया  बताते चले 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर एक प्रस्ताव को पास किया, जिसमें यह मांग की गई है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिया गया भारत रत्न सम्मान वापस लिया जाए। खबरों के अनुसार

आप विधायक अलका लांबा ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिये गये ‘भारत रत्न’ सम्मान को वापस लेने की मांग संबंधी विधानसभा में पेश कथित प्रस्ताव का विरोध करते हुए शुक्रवार को कहा कि वह विधायक पद से इस्तीफ़ा देने जा रही हैं। मीडिया  से बात करते हुए चांदनी चौक से आप विधायक अलका लांबा ने कहा, ‘मैं पार्टी के प्रस्ताव से सहमत नहीं थी, इसलिए यह ने यह निर्णय लिया। पार्टी बैक फुट पर थी। मैं इस बात के लिए सहमत नहीं थी कि राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लिया जाए। मैं अपने स्टैंड पर कायम रहूंगी चाहे इसका मुझे कोई भी परिणाम भुगतना पड़े।’

अलका लांबा ने आगे कहा,

केजरीवाल चाहते थे कि मैं इस्तीफा दूं। मैं उनकी पार्टी के टिकट पर चुनाव जीती थी, इसलिए मैं इस्तीफा दे रही हूं।’ यहीं नहीं अलका ने ट्वीट कर भी कहा, ‘आज दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव लाया गया कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी जी को दिया गया भारत रत्न वापस लिया जाना चाहिए, मुझे मेरे भाषण में इसका समर्थन करने के लिये कहा गया, जो मुझे मंजूर नहीं था, मैंने सदन से वॉकआउट किया। अब इसकी जो सजा मिलेगी मैं उसके लिये तैयार हूं।’

इससे पहले लांबा ने मीडिया से कहा कि किसी व्यक्ति को किसी एक कार्य के लिये भारत रत्न नहीं मिलता है। देश के लिए जीवन पर्यन्त उल्लेखनीय कार्यों के लिए यह सम्मान दिया जाता है। इसलिए किसी एक वजह से भारत रत्न वापस लेने की बात का समर्थन करना उचित नहीं है। उन्होंने कहा, ‘राजीव जी ने देश के लिए क़ुर्बानी दी है, इस बात को नहीं भुलाया जा सकता है।’

आम आदमी पार्टी के नेता और विधायक सौरभ भारद्वाज ने इस बारे में ट्वीट करते हुए लिखा कि फिलहाल राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लिए जाने संबंधी प्रस्ताव पास नहीं हुआ है। एक विधायक की ओर से प्रस्ताव में इस बात को शामिल किए जाने के लिए कहा गया था लेकिन यह संशोधन इस तरह पास नहीं किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को आप के दो विधायकों ने सिख दंगा मामले का हवाला देते हुए राजीव गांधी का भारत रत्न सम्मान वापस लिए जाने की केंद्र सरकार से मांग करने वाला प्रस्ताव पेश किया था।