जरा हट के

दिलचस्प जानकारी: आजादी के समय 10 ग्राम सोने की कीमत आपके होश उड़ा देगी

आज के समय में 10 ग्राम सोना खरीदने के बारे में एक आम परिवार बहुत सोचता है क्योंकि इसकी कीमत आसमान छू रही है लेकिन शादी या किसी खास मौके पर इसे खरीदना भी जरूरी होता है. मगर क्या आजादी के साथ-साथ हमें गोल्ड खरीदने की आजादी भी मिली है ? आजादी को 72 साल हो गए हैं और इतने सालों में महंगाई से लेकर डॉलर की कीमत में और सोने की कीमत में भी बहुत उतार-चढ़ाव हुए हैं. 15 अगस्त 1947 को आजादी के समय 10 ग्राम सोने की कीमत आपको हैरान कर सकती है, जिसे जानकर आपको हैरानी हो सकती है क्योंकि इसमें जमीन आसमान का फर्क पाया जाएगा. उस समय से इस समय तक में बहुत सा फर्क आ चुका है और कई नई तकनीकियों ने आसमान छुआ है. अब अगर उस समय में एक डॉलर की कीमत पूछी जाए तो शायद ही किसी को पता हो.

आजादी के समय 10 ग्राम सोने की कीमत

आज भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में 6वें नंबर पर है और आज का भारत आजादी के भारत से कई गुना ज्यादा प्रोग्रेस कर चुका है. साल 1947 में एक डॉलर की कीमत एक रुपये हुआ करती थी लेकिन आज के समय में एक डॉलर की कीमत 70.07 रुपये के स्तर पर आ गई है. मतलब इतने सालों में डॉलर में इतना फर्क आया है इसके अलावा आजादी के समय सोने की 10 ग्राम सोने की कीमत 88.62 रुपये थी लेकिन आज 72 सालों के बाद 10 ग्राम सोने को खरीदने के लिए लगभग 30 हजार रुपये चुकाने पड़ते हैं. यहां तक की आज के समय में गोल्ड पर लोग इनवेस्मेंट करने लगे हैं और गोल्ड को एक प्रोपर्टी के तौर पर देखा जाने लगा है.

इन सालों में सबकुछ बदल गया है इसके साथ ही महंगाई भी आसमान को छूने लगी है. साल 1950 में सोने का भाव 99 रुपये प्रति 10 ग्राम हुआ करता था और साल 1953 तक स्थिर रहा लेकिन फिर साल 1953 में इसकी कीमत 73 रुपये प्रति ग्राम हो गई थी. फिर साल 1959 तक फिर उछाल आया और 10 ग्राम सोने का भाव 102 रुपये हो गया था.

साल 2000 में 10 ग्राम सोने की कीमत 4400 रुपये हो गई थी जो कि उसके बाद नियंत्रित हुई और साल 2013 आते-आते 10 ग्राम सोने की कीमत 3300 रुपये हो गई थी. इस पड़ाव पर सोने के सफर ने बहुत ही तेजी से उछाल मारी. साल 2013 में कांग्रेस सरकार में रुपये की कीमत तेजी से गिरी थी जिसकी वजह से वित्त मंत्री ने भारत के लोगों से सोना ना खरीदने की अपील की थी और इसी बीच सोना आयात करने पर टैक्स भी 2 से 10 रुपये तक बढ़ा दिये गए थे. भारत में सोने (Gold) का बहुत महत्व है क्योंकि शादी हो या कोई भी त्योहार भारतीय महिलाओं को सोना पहनना ही होता है और ऐसा भी कहा जाता है कि गोल्ड के बिना महिलाएं पूरी नहीं लगती.

Back to top button