हुक्का जलता रहा और कोरोना फैलता गया, अब 24 घरों में हो रही दुआ

0
45

 

चंडीगढ़/जींद। हरियाणा में हुक्का का जोर है। हुक्का घर की ही नहीं, पंचायत की शान होती है। विवाहोत्सव में भी हुक्का पीने को दिया जाता है। जो हुक्का नहीं पीता, उसे पिछड़ा माना जाता है। इस कारण हर कोई हुक्का पीता है। इसी हुक्का ने पूरे गांव को मुश्किल में डाल दिया है। हुक्का के करण पूरे गांव में कोरोना फैल गया है। एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है।

हुक्का के कारण समस्या

हरियाणा के जींद के गांव शादीपुर में आठ जुलाई को 31 वर्षीय युवक पॉजिटिव पाया था। यह युवक शादीपुर में फर्नीचर की दुकान चलाता है। चार जुलाई को यह युवक गुरुग्राम में किसी शादी कार्यक्रम में गया था। इसने वापस आने के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जुलाना में अपना सैंपल दिया। शादी से वापस आने के बाद यह अपनी फर्नीचर की दुकान पर हुक्का भरके पीता था। उसकी दुकान पर आसपास के लगभग दस दुकानदार हुक्का पीने आते थे। यह सभी शादीपुर के ही रहने वाले हैं। आठ जुलाई को इसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इस युवक के पॉजिटिव में आने के बाद परचून की दुकान चलाने वाला व्यक्ति पॉजिटिव आया। इसी व्यक्ति की पीजीआई में उपचार के दौरान मौत हो गई।

24 लोग कोरोना सकारात्मक

इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आसपास के दुकानदारों और पॉजिटिव के परिजनों के सैंपल लिए। अब तक दस दुकानदारों समेत उनके 24 परिजनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। एक हुक्के कारण पूरा शादीपुर गांव आज कोरोना की चपेट में आ चुका है। पूरे गांव में इस कारण भय का माहौल है। ग्रामीण अब एक-दूसरे के पास हुक्का नहीं पीते।

बीड़ी, सिगरेट व हुक्का पीने से बचें

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा ने कहा कि हुक्का कोरोना संक्रमण फैलाने का सबसे आसान माध्यम है। इसमें जब व्यक्ति हुक्का खींचता है तो यह सीधा सांस के माध्यम से फेफड़ों तक पहुंच जाता है। बीड़ी, सिगरेट व हुक्का पीने से लोगों को परहेज करना चाहिए। यह सभी वायरस फैलने के माध्यम हैं।