हनुमान चालीसा का पहले तो खूब बनाया मजाक, केस हुआ तो कॉमेडियन ने जोड़े हाथ !

0
59

कॉमेडियन आलोकेश सिन्हा ने हनुमान चालीसा का मजाक बनाने को लेकर माफ़ी माँगी है। उन्होंने कहा कि ये वीडियो 14 फ़रवरी का है। आलोकेश सिन्हा ने कहा कि उन्होंने हनुमान चालीसा के सम्बन्ध में कुछ बातें की थीं, जिसके लिए वह क्षमाप्रार्थी हैं। उन्होंने कहा कि वो धर्म से हिन्दू हैं और किसी भी हिन्दू को उनकी बातों से ठेस पहुँची है तो उसके लिए वो तहे दिल से माफ़ी माँगते हैं। रमेश सोलंकी ने उनके खिलाफ़ मामला दर्ज कराया था।

पूर्व शिवसेना नेता रमेश सोलंकी ने आलोकेश सिन्हा और ‘हैबीटेट मुंबई’ के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। उन्होंने कहा था कि आजकल हिन्दू धर्म और हिन्दू देवी-देवताओं का मजाक बनाना एक फैशन बन गया है। उन्होंने गृह मंत्रालय और साइबर पुलिस को ऐसी घटनाओं के सम्बन्ध में एक्शन लेने की माँग की थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि आलोकेश सिन्हा ने हनुमान चालीसा का मजाक बना कर हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाई है।

आलोकेश सिन्हा ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि वो हनुमान जी का काफ़ी सम्मान करते हैं और सपने में भी उन्हें लेकर मजाक करने की नहीं सोच सकते। उन्होंने दावा किया कि उनका वो चुटकुला सेंसर बोर्ड को लेकर था, जिसने अनुष्का शर्मा अभिनीत ‘फिलौरी’ से हनुमान चालीसा को डिलीट करवा दिया गया था। बता दें कि इस फिल्म का एक दृश्य था जिसमें अभिनेता सूरज शर्मा हनुमान चालीसा पढ़ते हैं लेकिन भूत नहीं भागती है। सेंसर बोर्ड ने कहा था कि इससे धार्मिक भावनाएँ आहत होंगी।

सेंसर बोर्ड ने इस दृश्य को बेतुका करार दिया था। आलोकेश सिन्हा ने कहा कि वो हिन्दू समाज और हनुमान जी से माफ़ी माँगते हैं। उन्होंने बताया कि उनके पिता ने कारगिल युद्ध में लड़ाई लड़ी थी और वो उनके ही बेटे हैं। आलोकेश ने कहा कि वो इसी देश में रहने वाले हैं और इस देश के साथ कभी भी गद्दारी नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि वो अपने ही ‘भाइयों’ का कभी मजाक नहीं बना सकते। आलोकेश ने कहा कि उन्हें जैसे ही इस विवाद का पता चला, उन्होंने ये वीडियो बनाया।

कॉमेडियन आलोकेश सिन्हा ने आश्वासन दिया है कि वो आगे से कभी भी हिन्दू देवी-देवताओं या धर्म से सम्बंधित टॉपिक पर मजाक नहीं करेंगे। हनुमान चालीसा पर उपजे विवाद पर केस दर्ज होने के बाद जारी किए गए उनके माफीनामे पर रमेश सोलंकी ने कहा कि वो अब जनता पर छोड़ते हैं कि क्या किया जाना चाहिए। बता दें कि इससे पहले अरविन्द केजरीवाल ने चुनावी फायदे के लिए टीवी पर हनुमान चालीसा पढ़ कर विवाद खड़ा किया था।