हनुमानजी की पूजा घर में करते समय जरुर रखें इन बातों का ध्यान, वरना होगा बड़ा नुकसान

0
71

 

हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है। कहा जाता है की अगर पूरे विधि विधान और साफ मन से हनुमान जी की पूजा अर्चना उनके मान्यता वाले दिन की जाए तो निश्चित रूप से उस व्यक्ति के जीवन में पैसों की तंगी कभी नहीं आती और उसका जीवन सदा आनंदमयी बना रहता है। आज हम आपको हनुमान के पूजा के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए उसके बारे में बताने जा रहे हैं जिसपर अमल करने के बाद आप भी हनुमान जी की पूजा करके अपने सभी आर्थिक मामलों से सम्बंधित दिक्कतों का निवारण कर सकते हैं।

मंगलवार और शनिवार हनुमान के लिए खास माना जाता है । समस्याओं से आपको निजात हनुमान जी दिला सकते है क्योंकि इनकी साधना अति सरल एवं सुगम है चूंकि वह बाल ब्रह्मचारी थे इसलिए इनकी साधनाओं में ब्रह्मचारी व्रत अवश्य लेना चाहिए। सदाचारी रहना चाहिए। माना जाता है कि कलयुग में हनुमान जल्द ही मनोकामनाएं पूर्ण कर देती है, लेकिन हनुमान जी की पूजा करते समय साफ-सफाई और पवित्रता का विशेष ध्यान रखना अनिवार्य है। किसी भी प्रकार की अपवित्रता नहीं होनी चाहिए। जब भी पूजा करें, तब हमें मन से और तन से पवित्र हो जाना चाहिए। पूजन के दौरान गलत विचारों की ओर मन को भटकने न दें।

हनुमान जी के पूजा के दौरान इन बातों का रखें ख्याल

हनुमान जी के पूजा के दौरान महज कुछ बातों को ध्यान में रखकर ही पैसों की समस्या से हमेशा हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है।

वास्‍तु के अनुसार हनुमान जी की मूर्ति को इस तरह लगाएं कि उनका मुख दक्षिण दिशा की ओर रहे। हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी माना जाता है इसलिए युगल दंपत्ति के कमरे में हनुमान जी की तस्‍वीर नहीं लगानी चाहिए।

शनिवार और मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करते समय 108 बार हनुमान चालीसा का जाप जरूर करें। अगर एक बार में 108 बार जाप करना संभव नहीं हो तो आप दो बार में भी हनुमान चालीसा का जाप कर सकते हैं। इसके अलावा पाठ शुरू करने से पहले रामरक्षास्रोत्र का पाठ जरूर करें।पाठ के बाद हनुमान जी को लाल मिठाई का भोग लगाएं। मंगलवार के दिन हनुमान जी को विशेष रूप से सिंदूर और लाल रंग की मिठाई का भोग लगाना चाहिए।

हनुमान जी की पूजा में लाल रंग के पुष्‍पों का प्रयोग करना चाहिए। घी या तिल के तेल का दीपक जलाएं।

हनुमान जी की पूजा तभी सफल मानी जाती है जब आप पहले भगवान राम का नाम लें। हनुमान जी की उपासना से पहले सिया राम का नाम जरूर लें।

हनुमान जी की पूजा सध्‍या काल या सूर्यास्‍त के बाद ही करनी चाहिए। हनुमान जी के या किसी भी देव की पूजा करते समय मन में वासनमयी विचार नहीं आने चाहिए।

हनुमान जी को नैवेद्य में नारियल का गोला या गुड़ चढ़ाएं। गुड़ से बने लड्डू, केले, अनार, आम, लड्डू या बूंदी अर्पित करें।

इस विधि से हनुमान जी की पूजा करें। हनुमान जी की पूजा में इन नियमों का ध्‍यान रखने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगीं।

हनुमान जी की आराधना में इन मंत्रों का जाप करें -:

– ऊं हं हनुमते नम:

– ऊं पनवपुत्राय नम:

– ऊं रामदूताय नम:

मंगलवार के दिन इनमें से किसी भी मंत्र का 108 बार जाप करें

इस विधि से अगर आप हनुमान जी की पूजा करें करें तो ऐसा माना जाता है की आपके जीवन में धन से सम्बन्ध्ति कोई परेशानी नहीं आएगी