जरा हट केसेहत

सोने के तरीके से चलता है सेहत और स्वभाव का पता.. जानिए क्या और कैसे?

शोधकर्ता और विशेषज्ञों के अनुसार व्यक्ति के बिस्तर पर सोने का तरीका उसके स्वास्थ्य व स्वभाव को दर्शाता है | ज्यादातर लोग तीन तरह से सोते हैं – पेट के बल, करवट लेकर और पीठ के बल | हर किसी की अपनी पसंदीदा मुद्रा होती है जिसमें आप आराम महसूस करते हैं | आइए जानते हैं इनके बारे में..

करवट लेकर सोना- 

जो लोग करवट लेकर सोते हैं और गर्भस्थ शिशु की तरह घुटने मोड़ लेते हैं वे आसानी से हार नहीं मानते | ये लोग फिट दिखते हैं लेकिन संवेदनशील होते हैं | इनका दिल व दिमाग खुला होता है | साइट स्लिपिंग के दुष्परिणाम हैं, बांहों व पैरों की नस दबने से दर्द हो सकता है | करवट लेकर सोने से एसिडिटी का प्रवाह बढ़ सकता है | ऎसे लोगों को पीठ व गर्दन पर तकिए का सपोर्ट लेना चाहिए और घुटनों के नीचे पतला तकिया दबाना चाहिए |

पेट के बल सोना- 

जो लोग पेट के बल यानी उल्टा सोते हैं और बांहें फैलाते हैं, वे समझौता परस्त इंसान होते हैं | परिस्थितियों पर उनका नियंत्रण नहीं होता | ऎसे लोग निराशा-हताशा व चिंतित मुद्रा में जागकर दिन की शुरूआत करते हैं | स्वास्थ्य के नजरिए से हमें यह समझना चाहिए कि बिस्तर मसाज टेबल नहीं है | मसाज टेबल में सांस लेने के लिए छेद होते हैं | यदि सोते समय गर्दन, रीढ़ की हड्डी की सीध में रहेगी तो सांस लेने में असुविधा होगी |

पीठ के बल सोना- 

जो लोग पीठ के बल सोते हैं और भुजाएं तानकर सीधे रखते हैं, वे जिद्दी होते हैं | हुकूमत उनका स्वभाव होता है | जिनकी गर्दन या कमर में दर्द है, उन्हें पीठ के बल सोना चाहिए | इससे रीढ़ की हड्डी और नसों पर कम दबाव पड़ता है | इसके दुष्परिणाम भी हैं, आप खर्राटे भरेंगे या फिर एसिडिटी का प्रवाह बढ़ेगा | इनसे बचने के लिए अपना सिर ऊंचा रखें यानी अतिरिक्त तकिया लगाएं |

बिस्तर पर सोने का सही तरीका क्या है-

वैसे सोने का सही तरीका बायीं ओर करवट लेकर लेटना है | इससे पेट संबंधी समस्याएं नहीं रहती हैं, और आप गहरी नींद में सो पाते हैं | इस तरह से सोने से रक्त का प्रवाह बना रहता है | इससे किडनी को अपना काम करने में मदद मिलती है और पैरों व एडियों में सूजन नहीं आती |

Back to top button