सावन विशेष: आखिर क्यों की जाती है खंडित शिवलिंग की पूजा, जानें बड़ी वजह

0
44

 

यूँ तो हिन्दू धर्म में पूरे रीती रिवाजो के साथ मूर्ति पूजा की जाती है. मगर फिर भी मूर्ति पूजा करने के कई नियम भी होते है. जिन्हे व्यक्ति को निभाना ही पड़ता है. जी हां जैसे कि व्यक्ति किसी भी मूर्ति या प्रतिमा को अशुद्ध हाथो से नहीं छू सकता. इसके इलावा बिना स्नान किए कभी मूर्ति पूजा नहीं की जा सकती और इसके साथ ही देवी देवताओ को जो प्रसाद चढ़ाया जाता है, उसका शुद्ध होना भी जरुरी है. वही अगर शास्त्रों की माने तो घर या मंदिर में अगर कोई मूर्ति या प्रतिमा खंडित हो जाए यानि टूट जाएँ तो उसे तुरंत हटा दिया जाता है. वो इसलिए कोई खंडित मूर्ति को घर में या मंदिर में रखना शुभ नहीं माना जाता.

जी हां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि खंडित मूर्तियों की पूजा करना भी उचित नहीं माना जाता और ये बात आपने केवल शास्त्रों में ही नहीं बल्कि और भी कई जगहों पर पढ़ी और सुनी होगी. हालांकि अगर भगवान् शिव की बात की जाए तो उनका स्वरूप शिवलिंग एक अपवाद है. इसका मतलब ये है कि आप इस दुनिया में व्याप्त किसी भी शिवलिंग की पूजा कर सकते है. जी हां फिर भले ही वो प्रतिमा खंडित ही क्यों न हो, लेकिन आप उसकी पूजा कर सकते है. दरअसल खंडित शिवलिंग की पूजा करने के पीछे भी एक बड़ा कारण छिपा हुआ है और वो ये है कि भगवान् शिव इस दुनिया में हर स्वरूप में विद्यमान रहते है.

यही वजह है कि उनका शिवलिंग भले ही सम्पूर्ण हो या खंडित, लेकिन वो हर दिशा और दशा में पूजने के योग्य होता है. हालांकि आपने कई बार लोगो को ये कहते सुना होगा, कि खंडित शिवलिंग की पूजा नहीं करनी चाहिए और कई लोग तो शिवलिंग को खंडित कह कर उसे घर के बाहर कही छोड़ देते है. मगर हम आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अगर आप भी शिवलिंग के साथ ऐसा करते है, तो वास्तव में आप शिव जी का अपमान कर रहे है. जी हां अगर आप खंडित शिवलिंग को अपने घर में नहीं भी रखना चाहते, तो उसे घर के बाहर कही छोड़ने की बजाय, किसी ऐसे जल में प्रवाहित कर दे जो शुद्ध हो और जहाँ खंडित शिवलिंग को प्रवाहित किया जा सके.

इसके इलावा अगर आप चाहे तो खंडित शिवलिंग को अपने घर में भी रख सकते है और उसकी पूजा कर सकते है. मगर इस बात का खास ध्यान रखे कि जो शिवलिंग एक बार खंडित हो गया, उसे दोबारा सम्पूर्ण बनाने की कोशिश न करे. बरहलाल अगर आपको रास्ते में भी कभी कोई खंडित शिवलिंग दिखे तो उसके सामने हाथ जोड़ कर उसकी पूजा जरूर करे, क्यूकि हमें यकीन है कि शिवलिंग के हर स्वरूप में शिव जी का वास होता है. ऐसे में अगर आप शिवलिंग के आगे हाथ जोड़ कर माथा टेकेंगे, तो आपको शिव जी का आशीर्वाद जरूर मिलेगा.

हमें उम्मीद है कि इसे पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि आखिर क्यों खंडित होने के बाद भी शिवलिंग की पूजा करना अनुचित नहीं माना जाता.