सावन के दूसरे सोमवार मिलेगी रोगों से मुक्ति, ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न

0
53

 

भगवान शिव कल्याण के देवता हैं। सावन के महीने में सोमवार के दिन देवों के देव महादेव की पूजा अत्यधिक फलदायी मानी गई है। सावन सोमवार के दिन भगवान शिव का व्रत करते हुए शिवलिंग को जल चढ़ाने और रुद्राभिषेक करने पर मनोकामनाएं पूरी होती हैं।सावन के दूसरे सोमवार के दिन भगवान शिव की अराधना करने से रोगो से मुक्ति मिलेगी।

सावन सोमवार व्रत की पूजा विधि
सावन के सोमवार का व्रत करने के लिए जल्दी सुबह उठकर सबसे पहले स्नान करें और भगवान शिव को जल चढ़ाकर भगवान शिव का मंत्र जपें। इसके बाद पूरे दिन निराहार रहते हुए प्रदोषकाल में भगवान शिव को शमी, बेल पत्र, कनेर, धतूरा, चावल, फूल, धूप, दीप, फल, पान, सुपारी आदि चढ़ाएं।

सावन सोमवार व्रत में रखें इन बातों का ख्याल
सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा अन्य दिनों की अपेक्षा जल्दी फलदायी होती है। ऐसे में सावन मास के बाकी बचे हुए दिन में यदि आप भी भगवान शिव की कृपा पाना चाहते हैं तो भूलकर भी ये काम न करें।

सावन सोमवार व्रत वाले दिन अपना मन, वाणी निर्मल बनाए रखें। व्रत के दौरान क्रोध न करें। व्रत में शुचिता और पवित्रता का पूरा ध्यान रखें। अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण रखें। किसी भी प्रकार का नशा न करें। व्रत वाले दिन चोरी, झूठ, हिंसा आदि से बचें।

भगवान शिव की पूजा में कभी भी तुलसी, नारियल, केतकी का फूल आदि नहीं चढ़ाना चाहिए।