लॉकडाउन में निकले लाल स्वामी को पुलिस ने मार डाला, लेने जा रहे थे बच्चों के लिए दूध !

0
81

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले के संकराइल इलाके में पुलिस की पिटाई से एक व्यक्ति की मौत का मामला प्रकाश में आया है. उसकी उम्र 32 साल थी. घटना राजगंज इलाके की है. पुलिस की पिटाई से लाल स्वामी की मौत का आरोप लगाकर बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों ने एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन किया. थाने का घेराव करने की भी कोशिश की गई. घटना बुधवार रात की है.

परिजनों ने दावा किया है कि अपने बच्चों के लिए दूध खरीदने हेतु लाल स्वामी अपने घर से निकले थे. उसी समय पुलिस ने उन्हें इतना मारा कि लहूलुहान होकर गिर पड़े थे. स्थानीय अस्पताल ले जाया गया लेकिन थोड़ी देर के इलाज के बाद दम तोड़ दिया. इसकी जानकारी जैसे ही स्थानीय लोगों को लगी, बड़ी संख्या में लोग घरों से निकल पड़े.

पुलिस के खिलाफ नारेबाजी और हंगामा शुरू हो गया. लोगों ने थाने का घेराव करने की भी कोशिश की. हालांकि स्थानीय प्रशासन और जन प्रतिनिधियों के बीच-बचाव के बाद हालात को संभाला गया. पुलिस का दावा है कि पिटाई से मौत नहीं हुई है बल्कि हृदयाघात से उस व्यक्ति ने दम तोड़ा है.

उल्लेखनीय है कि पूरे देश में लॉकडाउन के दौरान पुलिस लाठीचार्ज का वीडियो वायरल हो रहा है. कई जगहों पर तो पुलिस लोगों को लगातार डंडे से पीटती जा रही है. इसे लेकर कई मानवाधिकार संगठनों ने सवाल खड़ा किया है.