लखनऊ से चोरी स्मार्टफोन्स की घंटी मेरठ में बजी, वो भी भाजपा नेताओं के घर पर !

0
24

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जनवरी महीने में चोरों ने एक ट्रक पर लदे ब्रांडेड मोबाइलों की पूरी खेप चुरा ली थी. इस बीच जांच कर रही पुलिस को चोरी हुए कई मोबाइलों की लोकेशन मेरठ में मिली. हैरानी की बात ये है कि सर्विलांस टीम को 36 मोबाइल नेताओं के घर बजते मिले हैं, जिनमें कई भाजपा नेता हैं.

लखनऊ में एक जनवरी 2019 को तिरपाल काटकर एक ट्रक से मोबाइल फोन चोरी हुए थे. जिसका मुकदमा कंपनी के मैनेजर ने लखनऊ के पारा थाने में दर्ज कराया था. वहीं चोरी हुए 36 मोबाइल ऑपरेट हुए तो उनकी लोकेशन मेरठ में मिली. जिसके बाद लखनऊ पुलिस ने मेरठ में डेरा डाला. एसपी क्राइम रामअर्ज ने मोबाइल बरामदगी के लिए देहलीगेट, कोतवाली, सदर बाजार और लिसाड़ीगेट पुलिस की टीम लखनऊ पुलिस के साथ लगा दी. वहीं 36 मोबाइल सर्विलांस टीम को नेताओं के घरों में ऑपरेट होते हुए मिले. इन नेताओं में कई बीजेपी के नेत भी हैं.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नेताओं को फजीहत से बचाने के लिए पुलिस भी साठगांठ का खेल खेल रही है और गुपचुप मोबाइल बरामद कराने में लगी है. बुधवार दिन भर पुलिस ने कई जगहों पर लखनऊ पुलिस के साथ दबिश दी. लेकिन एक भी आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लगा. वहीं जिनके पास चोरी के मोबाइल ऑपरेट होते हुए मिले हैं, उन्होने भी पुलिस को कोई जानकारी नहीं दी कि आखिर उनके पास ये फोन कहां से आए. एक-दूसरे का नाम बताकर लोग पल्ला झाड़ रहे हैं.

एक के बाद एक दस मोबाइल नेताओें के गुर्गे पुलिस को देकर चले गए. तीन दिन से यह सिलसिला चल रहा है. पुलिस ने बताया है कि ब्रांडेड मोबाइल को सस्ते दाम में खरीदने के चक्कर में भाजपा नेता फंसे हैं. बुधवार को भाजपा नेताओं ने पांच मोबाइल लखनऊ पुलिस को लौटाए हैं.