‘रामायण’ के इस सीन ने लिया बड़ा बलिदान, ‘राम-लक्ष्मण’ की पीठ पर पड़े फफोले, खाल तक उतर गई शूटिंग के दौरान

0
2116

इन दिनों देश लॉकडाउन में है और दूरदर्शन पर रामायण सीरियल का प्रसारण हो रहा है। यही वजह है कि सोशल मीडिया पर रामायण की खूब चर्चा भी हो रही है। रामायण को लेकर किसी न किसी बात पर सोशल मीडिया में जमकर बातें होती हैं। ऐसे में आज हम आपको रामायण के परदे के पीछे की एक खास कहानी सुनाते हैं।

रामायण के एक मुश्किल सीन की शूटिंग के बारे में लक्ष्मण यानी सुनील लहरी बताते हैं, ‘जब हम गुजरात के राजपुतला इलाके में नर्मदा नदी के तट पर शूटिंग कर रहे थे तो उन दिनों वहां भीषण गर्मी थी। रामायण के उस हिस्से की शूटिंग हो रही थी, जब राम, लक्ष्मण और सीता माता अयोध्या छोड़ वन की ओर वनवास के लिए जा रहे थे। केवट वाला सीन शूट किया जा रहा था, जिसमें केवट गंगा पार करवाते हैं। यह शूटिंग सिचुएशन बहुत सख्त और तकलीफदेह थी।’

‘दरअसल उस समय वहां का तापमान 50 डिग्री था और हमारी शूटिंग का टाइम सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक होती थी। शूट था कि हमें पहले नदी तक चलना था, वहां नाव में बैठ पार जाना और फिर 30 से 50 फुट पैदल नंगे पैर उसी नदी की रेत पर चलना।’

‘आप यकीन नहीं करेंगे कि सही इमोशन के साथ एकदम परफेक्ट शॉट देने में कई रिटेक्स होते थे और जिनके भी बदन खुले थे और जो भी नंगे पैर थे, उनके बदन और पैर में तेज धूप की जलन से बड़े-बड़े फफोले पड़ गए थे। कई दिनों तक नहाते समय जब पीठ पर पानी पड़ते ही जान निकल जाती थी। जली हुई पीठ की खाल कई दिनों तक निकलती रही।’

‘जब मेरी और अरुण गोविल जी की पीठ पर फफोले पड़ गए थे अगले दिन की शूटिंग के समय हम फफोलों को मेकअप करके छिपाते थे। पूरी रामायण को हमने लगभग 3 साल शूट किया, लेकिन इस दिन की शूटिंग मैं कभी भी नहीं भूल पाता हूं। उस दिन की शूटिंग मुझे हिम्मत और साहस की प्रेरणा देती है।’

‘जैसे मेरे, राम ( अरुण गोविल ) और केवट के शरीर और पैर पर फफोले पड़ गए थे, हम नंगे पैर थे, तो पैर में भी फफोले पड़ गए थे। हमने नर्मदा में शूट कर, उसे गंगा नदी दिखाया था।’

‘इस सीन की शूटिंग जब तक होती रही, तब तक पूरी टीम के लोगों में एक-एक आदमी 50-50 ग्लॉस पानी पी गया, लेकिन तापमान इतना हाई था कि कोई भी पूरे दिन में बाथरूम नहीं गया, शरीर का पूरा पानी सूख जाता था।’

‘इस तरह के टफ माहौल में हमने शूट किया और यह हुआ पूरी टीम का जज्बा था। आप जब भी यह सीन देखेंगे आपको कभी भी नहीं लगेगा कि यह शूटिंग इतनी मुश्किल परिस्थिति में हुई होगी।’