रांची में लॉकडाउन : 113 लोगों को हुआ कोरोना, फिर भी पुलिस-प्रशासन में नहीं दिखती गंभीरता !

0
36

झारखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। अब तक सबसे ज्यादा राजधानी रांची में 113 संदिग्धों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इधर, आम लोगों को भी मास्क पहन कर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक आने-जाने की छूट दी गई है। हालांकि शाम 7 बजे के बाद भी सड़कों पर वाहन सरपट दौड़ रहे हैं।

सरकार ने लॉकडाउन की वजह से पटरी से उतर चुकी अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए जरूरी उत्पाद बेचने वाले दुकानों को खोलने की छूट दी है। आम लोगों को भी मास्क पहन कर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक आने-जाने की छूट दी गई है। लेकिन शाम 7 बजे के बाद लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करने के लिए कहा गया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने झारखंड सरकार को भी पत्र लिखकर शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक कड़ाई से लॉकडाउन का पालन करने के लिए कहा है।

लेकिन यहां गृह मंत्रालय के गाइड लाइन का सख्ती से पालन कराने की गंभीरता पुलिस प्रशासन में नहीं दिख रही। इस वजह से लग रहा है कि पिछले 2 माह तक जिन लोगों ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन करके तपस्या की है, अब उनकी भी तपस्या पुलिस-प्रशासन की लापरवाही से भंग होगी, क्योंकि रांची में रात 9 बजे तक सब्जी मंडी सज रही है।

वहीं, रांची के बिरसा मुंडा एयरपाेर्ट से 25 मई से विमान सेवा शुरू हाेगी। रांची से दिल्ली के लिए तीन और मुंबई व हैदराबाद के लिए एक-एक फ्लाइट शुरू हाेगी। एयरपाेर्ट पर इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। साेशल डिस्टेंसिंग के लिए टर्मिनल के बाहर से विमान के अंदर प्रवेश करने तक घेरा बनाया गया है। एयरपाेर्ट डायरेक्टर विनाेद शर्मा खुद अधिकारियाें के साथ तैयारी में जुटे हैं।