यूपी में कोरोना वाला मंगलवार, 41 लोगों की मौत, ये ताजा आंकड़े हैं खौफनाक

0
58

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (Coronavirus in Uttar Pradesh Latest News) की वजह से 41 और लोगों की मौत हो गई। वहीं, प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 2983 नए मामले सामने आए। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट में दी गई है। मृतकों में सबसे ज्यादा आठ लोग कानपुर के थे। इसके अलावा लखनऊ और गोरखपुर में चार-चार, प्रयागराज, मुरादाबाद, सहारनपुर और आजमगढ़ में तीन-तीन, रामपुर और इटावा में दो-दो तथा वाराणसी, अयोध्या, शाहजहांपुर, चंदौली, महाराजगंज, मैनपुरी, गोंडा, लखीमपुर खीरी और अंबेडकर नगर में एक-एक मरीज की मौत हुई है।

प्रदेश में कोविड-19 से अबतक 1817 लोगों की मौत हो चुकी है। रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में संक्रमण के 2,983 नए मामले सामने आए हैं। इनमें लखनऊ में सबसे ज्यादा 611 नए मरीजों का पता लगा है। इसके अलावा कानपुर नगर में 259, प्रयागराज में 130, जौनपुर में 112 और वाराणसी में 109 नए मामले सामने आए हैं। प्रदेश में अब तक 57,271 संक्रमित लोग पूरी तरह ठीक होकर अस्पताल से छुट्टी पा चुके हैं। राज्य में इस वक्त कोरोना ऐक्टिव मरीजों की कुल संख्या 41,222 है।

50 हजार बेड जल्द तैयार करने के निर्देश
उधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को प्रदेश के एल-2 तथा एल-3 कोविड चिकित्सालयों में 50 हजार बेड जल्दी तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने महानिदेशक स्वास्थ्य तथा महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा को इस संबंध में समयबद्ध ढंग से कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने प्रत्येक जनपद में एकीकृत कमान एवं नियंत्रण केंद्र को प्रभावी रूप से क्रियाशील करने के निर्देश दिए हैं।

होम आइसोलेट लोगों से दो बार हो बात
योगी ने कहा कि जिस जनपद में ऐसे केंद्र स्थापित होने के बावजूद सुचारु रूप से कार्यशील नहीं हैं, वहां के जिलाधिकारी की जवाबदेही तय की जाएगी। उन्होंने घरों में आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित मरीजों से दिन में दो बार फोन से संवाद स्थापित कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री ने ऐम्बुलेंस व्यवस्था को और बेहतर बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि 108 ऐम्बुलेंस सेवा के साथ-साथ सरकारी चिकित्सालयों तथा मेडिकल कॉलेज की कुल एम्बुलेंस सेवा का 50 प्रतिशत कोविड मामलों में और शेष 50 प्रतिशत दूसरे मामलों में उपयोग किया जाए।