उत्तर प्रदेश

यूपी की इस सीट पर फंसा था पेंच, बंटवारे में मायावती के आगे क्यों झुके अखिलेश ?

गुरुवार को बसपा ने अचानक यूपी में सपा संग गठबंधन में सीटों के बंटवारे की लिस्ट जारी कर दी. इस बंटवारे के अनुसार 38 सीटों पर बसपा प्रत्याशी होंगे, 37 पर सपा के उम्मीदवार होंगे. रालोद के लिए 3 जबकि कांग्रेस के लिए 2 सीटें छोड़ी गई हैं. अगर पूर्वांचल की 26 सीटों की बात की जाएं तो यहांकौशाम्बी (एससी), फूलपुर, इलाहाबाद, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, आजमगढ़, बलिया, चंदौली, वाराणसी, मिर्जापुर, रॉबर्ट्सगंज (एससी) पर समाजवादी पार्टी जबकि डुमरियागंज, बस्ती, संत कबीर नगर, देवरिया, बांसगांव (एससी), लालगंज (एससी), घोसी, सलेमपुर, जौनपुर, मछलीशहर (एससी), गाजीपुर, भदोही पर बसपा चुनाव लड़ेगी.

इस बंटवारे की खास बात ये रही कि दिल्ली से सटे गाैतमबुद्ध नगर में जिस बात की उम्मीद थी, वही हुई. सपा-बसपा गठबंधन की अाेर से गाैतमबुद्धनगर लाेकसभा सीट बसपा के खाते में गई है. बसपा सुप्रीमाे मायावती का पैतृक निवास स्थल हाेने के कारण ऐसा हुअा है. सीटाें के बंटवारे में सामान्य ताैर पर पिछले चुनाव में जाे पार्टी दूसरे नंबर पर थी, उसे ही वह सीट दी गई है.

गाैतमबुद्ध नगर में पिछले लाेकसभा चुनाव में सपा दूसरे नंबर पर थी, जबकि बसपा तीसरे नंबर पर थी. सपा-बसपा में गठबंधन हाेने के बाद बसपा की तरफ से लाेकसभा प्रभारी घाेषित हाेने के बाद ही यह साफ हाे गया था कि यह सीट बसपा के खाते में जा रही है. बसपा की तरफ से जिले में अब तक दाे बार लाेकसभा प्रत्याशी बदला जा चुका है. नए लाेकसभा प्रभारी की घाेषणा दाे दिन पहले ही हुई है. इस कारण नए प्रभारी काे जमीन मजबूत करने में समय लगेगा

यहां बसपा ने युवा गुर्जर नेता सतवीर नागर काे लाेकसभा प्रभारी बनाकर गुर्जर वाेटराें काे साधने का प्रयास किया है. हालांकि, जिले में दाे कद्दावर गुर्जर नेता हैं. सुरेंद्र नागर सपा के राष्ट्रीय महासचिव हैं. साथ ही वह राज्यसभा के सदस्य हैं. दूसरे बड़े गुर्जर नेता नरेंद्र भाटी भी सपा से हैं. बसपा के सामने इन दाेनाें नेताअाें काे साधना बड़ी जिम्मेदारी है. यह दाेनाें नेता पूर्व में लाेकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. इस कारण इनकी जनता में भी मजबूत पकड़ है. ऐसे में इन दाेनाें नेताअाें के बगैर सहयाेग के बसपा की राह अासान नहीं है. सतवीर नागर युवा हैं. उनके सामने इनके अलावा पुराने नेताअाें काे साधने के अलावा अन्य बिरादरी में पैठ बढ़ाने की चुनाैती है.

 

 

Back to top button