यात्रीगण ध्यान दें ! जिस जिले में होगा एक भी कोरोना से संक्रमित, वहां नहीं रुकेंगे रेल के पहिए 

0
406

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले देश में लगातार बढ़ते जा रहे हैं। दिनप्रतिदिन मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस महामारी से बचने के लिए देश के प्रधानमंत्री ने बड़ा फैसला लेते हुए 21 दिनों तक लॉकडाउन के आदेश दिए। आज मंगलवार को लॉकडाउन का 14वां दिन है, लेकिन इस महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए एेसा माना जा रहा है कि शायद यह लॉकडॉउन (Trains in Lockdown) में कुछ बदलाव किया जा सकता है।

दरअसल, सरकार की रूपरेखा कुछ इस तरह होगी कि जिस जिले में कोई मरीज नहीं होगा, वहां लोगों को कुछ शर्तों के साथ जिले के अंदर आवाजाही की इजाजत होगी। कुछ जगहों पर रेल, विमान व बस सेवा भी शुरू की जाएगी। ज्यादातर जिलों में स्कूल, कॉलेज और पार्क जैसे जगहों को बंद ही रखा जाएगा। ट्रेन (Indian Railways) भी उन जिलों में रुकेंगी जहां पर कोरोना के मामले एक भी सामने नहीं आए हैं।

रेल ( IRCTC), बस और विमान यात्रियाें के अलावा यहां काम करने वालाें के लिए अलग-अलग एहतियात बताई गई हैं, जो इस प्रकार है..

-अदालत, कुरियर सर्विस, रेलवे स्टेशन पर थर्मल स्कैनिंग जरूरी हाेगी
-ट्रेन में मिडिल बर्थ बुक नहीं होगी
-प्लेटफाॅर्म टिकट महंगा करने का सुझाव है
-टीटीई इन्फ्रारेड थर्मामीटर से जांच करेगा
– ट्रेन में यात्रियों को मास्क और सैनिटाइजर पाउच देने का भी सुझाव है
– एयरपोर्ट पर बुजुर्ग, गर्भवती और बच्चों के लिए बोर्डिंग पास के लिए अलग लाइन होगी
-विमान के समय से तीन घंटे पहले यात्री को एयरपोर्ट में जाने की इजाजत नहीं होगी

65 वर्ष के ऊपर नागरिकों को बाहर निकले की अनुमति नहीं

वहीं 65 वर्ष के ऊपर नागरिकों को बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी।दूसरे राज्य में आवागमन की स्थिति बंद रहेगी। ट्रेन में अनारक्षित टिकट नहीं मिलेगा। बस-ट्रेन में क्षमता से एक तिहाई कम टिकट बुक होंगे। जिस जिले में केस नहीं होगा, वहां इंडस्ट्री शुरू होगी। लेकिन, श्रमिक उसी जिले के होंगे। जिन शहरों में केस होंगे, वहां परिवहन बंद रहेगा। सभी धर्मस्थल, शिक्षण संस्थान आदि बंद ही रहेंगे।