महाराष्ट्र में सरकार बनाने का फॉर्मूला तय, इस बात पर बनी तीनों की बात !

0
42

बीती शाम कांग्रेस-एनसीपी के नेताओं ने आपस में चर्चा की. इसके बाद संयुक्त पत्रकार वार्ता में दोनों दलों के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि महाराष्ट्र में जल्द ही एक स्थित सरकार बनेगी, जिसमें तीनों पार्टियों एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना को साथ आना होगा.एनसीपी नेता सुप्रिया सुले के आवास 6 जनपथ पर आयोजित इस बैठक के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि सरकार बनाने को लेकर सभी पहलुओं पर सकारात्मक वातारवरण में चर्चा हो रही है. अभी चर्चा से जुड़े कुछ विषय बाकी हैं. सभी विषयों पर बातचीत हो रही है, जिसकी विस्तृत जानकारी जल्द ही दी जाएगी.

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि महाराष्ट्र में प्रशासनिक कार्य पूरी तरह ठप है. किसानों को मदद मिलनी चाहिए लेकिन सरकार नहीं होने के चलते ऐसा नहीं हो पा रहा है. उन्होंने कहा कि तीन पार्टियों एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के साथ आए बिना राज्य में सरकार नहीं बन सकती है. इसके लिए सकारत्मक बातचीत जारी है और जल्द ही महाराष्ट्र में सरकार बनने जा रही है.

बता दें कि इसके पहले कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन कर सरकार बनाने को लेकर अपनी अनुमति दे दी थी. सूत्रों के अनुसार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार और सोनिया गांधी के बीच सोमवार को मुलाकात के दौरान ही इस पर सहमति बन गई थी. हालांकि एनसीपी नेता और सोनिया की मुलाकात के दौरान गठबंधन को लेकर तैयार किए जा रहे साझा न्यूनतम कार्यक्रम पर कोई चर्चा नहीं हुई थी.

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए 288 के सदन में 145 का आंकड़ा चाहिए. नई विधानसभा में शिवसेना के पास 56, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पास 54 और कांग्रेस पार्टी के पास 44 विधायक हैं. यह तीनों पार्टियां अगर गठबंधन करती हैं तो आंकड़ा 154 पहुंच जाएगा. यह आंकड़ा सरकार बनाने के लिए काफी है.