मनपसंद नंबर पर नहीं मिल रही बल्लेबाजी, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ दिए धोनी?

0
150

महेंद्र सिंह धोनी लोगों की नजरों से दूर क्यों हैं? ऐसा क्या हैं जिसके कारण उनमे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने की चाहत नहीं बची? ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो क्रिकेट से जुड़े हर व्यक्ति के दिमाग में हैं। स्पोर्ट्सकीड़ा में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस स्थिति का कारण धोनी का बल्लेबाजी स्थान हैं।

जी, दावा है कि 2017 में जब धोनी ने अपनी कप्तानी छोड़ी थी, तब वह उपरी क्रम में बल्लेबाजी करना चाहते थे। हालांकि ऐसा नहीं हुआ और शायद यही कारण हैं कि धोनी की अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने की इच्छा समाप्त हो चुकी है। इस बात की जानकारी बीसीसीआई से जुड़े कुछ सूत्रों ने प्रदान की।

सूत्रों ने बताया कि धोनी ने इस बारे में टीम प्रबंधन से बात नहीं की क्योंकि वह पहले से ही उपरी क्रम में खेलने वाले सबसे पसंदीदा खिलाड़ी थे। लेकिन जब 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान युवराज सिंह कुछ समय के लिए भारतीय टीम में आए तो धोनी को एक बार फिर निचले क्रम में खेलना पड़ा।

इसके बाद टीम प्रबंधन ने नंबर चार के स्थान पर परिक्षण करने शुरू कर दिए। कुछ समय अंबाती रायडू को यह मौका मिला और फिर अचानक ही उनकी जगह विजय शंकर को विश्वकप 2019 में इस स्थान के लिए शामिल कर लिया गया, जबकि इस समय तक उनके नाम वनडे क्रिकेट में एक अर्द्धशतक भी नहीं था।

सूत्रों ने बताया कि इसके बाद टीम प्रबंधन ने ऋषभ पंत पर अपना भरोसा जताया जबकि धोनी को लगातार निचले क्रम में खिलाया जा रहा था। यहां तक कि न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्वकप के सेमीफाइनल मैच में भी धोनी ने नंबर 7 पर बल्लेबाजी की थी, जिससे फैंस भी हैरान थे।

महेंद्र सिंह धोनी का भारतीय क्रिकेट टीम के लिए यह अंतिम मैच था। उन्होंने वेस्टइंडीज दौरे पर टीम से अपना नाम हटा लिया और इसके बाद से उन्हें कभी भारतीय टीम की जर्सी में नहीं देखा गया। भारत के लिए उपरी क्रम में खेलते हुए धोनी का औसत काफी अच्छा हैं और ये कुछ ऐसा हैं जो वह कप्तानी छोड़ने के बाद करना चाहते थे।

अब जब धोनी भारत के लिए नहीं खेल रहे हैं तो लोगों का ध्यान इस तरह हैं कि वह कब अपने संन्यास की घोषणा करेंगे।