मायानगरी

कंगना बोलीं- ‘मणिकर्णिका’ को न मिला नेशनल अवार्ड तो उनकी क्रेडबिलिटी पर उठेंगे सवाल

23 मार्च को कंगना रनौत ने मीडिया के साथ अपना जन्मदिन मनाया. कंगना के लिए जन्मदिन भी बाकी दिनों जैसा होता है. वह परिवार के साथ मनाली में जन्मदिन मनाने वाली थी लेकिन फिल्म ‘मेन्टल है क्या’ का कुछ पैच वर्क बाकी था, जिस वजह से उन्हें मुंबई में रुकना पड़ा. शाम को मीडिया के साथ उन्होंने केक काटा और बातचीत की.

‘तनु वेड्स मनु रिटर्न’, क्वीन जैसे फिल्मों के लिए नेशनल अवॉर्ड अपने नाम कर चुकीं कंगना को ‘मणिकर्णिका’ के लिए भी नेशनल अवॉर्ड की उम्मीद जताते हुए कहा, ‘अगर ‘मणिकर्णिका’ को नैशनल अवॉर्ड नहीं मिला तो नैशनल अवॉर्ड की विश्वसनीयता पर सवाल उठेंगे. कंगना ने यह भी कहा कि उन्हें नहीं लगता कि राष्ट्रीय सम्मान के लिए इस साल अब ‘मणिकर्णिका’ से बेहतर कोई फिल्म आएगी.’

कंगना ने आगे कहा, ‘देखिए, कई बार क्या होता है कि एक इंसान, किसी परफॉर्मेंस से, फिल्म से या कला का कोई भी तरीका-नमूना हो, उसे देखकर वह अपने आप में इतना बेहतरीन होता है कि अगर आप उसका सम्मान न करें तो, ऐसे में उस सम्मान करने वाली संस्था का अपमान होता है. अगर मेरी फिल्म मणिकर्णिका को राष्ट्रिय पुरस्कार नहीं मिला तो राष्ट्रीय पुरस्कार की क्रेडबिलिटी पर सवाल उठेंगे. ‘मैं यह भी कहती हूं कि अगर मणिकर्णिका से भी बेहतर काम होता है तो, मैं खुद कहूंगी कि यह अच्छा है. क्या आपको लगता है कि मणिकर्णिका जैसा कोई दूसरा काम हो सकता है? पिछले साल तब्बूजी ने अंधाधुन में बहुत अच्छा परफॉर्म किया था. इस साल अगर मणिकर्णिका से अच्छा परफॉर्मेंस होता है तो यह अच्छा मूल्यांकन होगा. मुझे तो नहीं लगता कि अब इस साल मणिकर्णिका से अच्छा काम हो सकता है.’

Back to top button