धर्म

मकर संक्रांति विशेष: इन 5 स्थानों पर जिसने किया स्नान, उसकी हर मनोकामना होगी पूरी

मकर संक्रांति को स्नान, दान और ध्यान के त्योहार के रूप में देखा जाता है। इस दिन सूर्य उत्तरायण होकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। इस दिन लोग सुबह नहाने के बाद भगवान सूर्य को खिचड़ी और गुड़ तिल से बनी चीजों को भोग लगाते हैं। शास्त्रों में इस दिन स्नान करने का बड़ा महत्व बताया गया है। तो आज हम आपको कुछ ऐसे विशेष स्थान के बारे में बताएंगे जहाँ पर स्नान करने से आपकी हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है।

1. ऋषिकेश

मकर संक्रांति के दिन ऋषिकेश में गंगा स्नान का काफी महत्व है। इस दिन स्नान करने के लिए श्रृद्धालुओं की काफी भीड़ लगी रहती है। ऋषिकेश का शांत वातावरण कई विख्यात आश्रमों का घर है। यह जगह हिमालय की निचली पहाड़ियों और प्राकृतिक सुंदरता से घिरे हुई है।

2. गंगासागर

मकर संक्रांति के दिन गंगासागर में स्नान करने का विशेष महत्व है। इस जगह पर गंगा नदी का सागर से संगम होता है। पुराणों की बात करें तो गंगा सागर में सिर्फ एक बार डुबकी लगाने भर से ही 10 अश्वमेध यज्ञ और एक हज़ार गाय दान करने के समान फल मिलता है। इस दिन यहाँ पर हज़ारों की संख्या में श्रृद्धालु आते हैं।

3. प्रयाग

मकर संक्रांति के दिन प्रयाग में स्नान करना अति उत्तम माना गया है। इस बार कुंभ स्नान की भी शुरुआत हो रही है और जो भी भक्त इस दिन 14 जनवरी को पयाग में स्नान करेंगे उन्हें इसका पूर्ण फल मिलेगा।

4. हरिद्वार

हरिद्वार को हिंदुओं का सबसे पवित्र तीर्थ स्थल भी माना जाता है। कहा जाता है कि मकर संक्रांति के दिन हरिद्वार में गंगा स्नान करने से कई जन्मों के पाप धुल जाते हैं। इस दिन देश के साथ-साथ विदेशों से भी हज़ारों और लाखों की संख्या में लोग आते हैं।

5. वाराणसी

वाराणसी दुनिया के सबसे पुराने शहरों में से एक है। मकर संक्रांति के दिन यहाँ पर लाखों की संख्या में गंगा स्नान करने के लिए उपस्थित होते हैं। यहाँ के प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर में खिचड़ी का भोग लगाने के बाद भक्तों में बाँटा जाता है।

Back to top button