भोलेनाथ ने क्यों लिया था अर्धनारीश्वर अवतार, क्या आपको है पता ?

0
110

भगवान शिव की पूजा सदियों से हो रही है लेकिन इस बात को बहुत कम लोग ही जानते हैं कि शिव का एक और रूप है जो है अर्धनारीश्वर. दरअसल शिव ने यह रूप अपनी मर्जी से धारण किया था. वह इस रूप के जरिए लोगों का संदेश देना चाहते थे कि स्त्री और पुरुष समान है. आइए जानते हैं इस घटना का चक्र. आखिर किस वजह से भगवान शिव को यह रूप धारण करना पड़ा था.


स्त्री-पुरुष की समानता का पर्याय है अर्धनारीश्वर
भगवान शंकर के अर्धनारीश्वर अवतार में हम देखते हैं कि भगवान शंकर का आधा शरीर स्त्री का तथा आधा शरीर पुरुष का है. यह अवतार महिला व पुरुष दोनों की समानता का संदेश देता है. समाज, परिवार तथा जीवन में जितना महत्व पुरुष का है उतना ही स्त्री का भी है. एक दूसरे के बिना इनका जीवन अधूरा है, यह दोनों एक दूसरे को पूरा करते हैं.

क्यों लिया यह अवतार
शिवपुराण के अनुसार सृष्टि में प्रजा की वृद्धि न होने पर ब्रह्माजी के मन में कई सवाल उठने लगे, तब उन्होंने मैथुनी सृष्टि उत्पन्न करने का संकल्प किया. लेकिन तब तक शिव से नारियों का कुल उत्पन्न नहीं हुआ था, तब ब्रह्माजी ने शक्ति के साथ शिव को संतुष्ट करने के लिए तपस्या की.

the secret of the Ardhanarishvara form of Shiva

ब्रह्माजी की तपस्या से परमात्मा शिव संतुष्ट हो अर्धनारीश्वर का रूप धारण कर उनके समीप गए तथा अपने शरीर में स्थित देवी शक्ति के अंश को पृथक कर दिया. उसके बाद ब्रह्माजी ने उनकी उपासना की. उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर शक्ति ने अपनी भृकुटि के मध्य से अपने ही समान कांति वाली एक अन्य शक्ति की सृष्टि की जिसने दक्ष के घर उनकी पुत्री के रूप में जन्म लिया.

अर्धनारीश्वर लेकर भगवान ने यह संदेश दिया है कि समाज तथा परिवार में महिलाओं को भी पुरुषों के समान ही आदर व प्रतिष्ठा मिले. उनके साथ किसी प्रकार का भेद-भाव न किया जाए.