बेशकीमती पत्थर को बरसों समझा मामूली, कीमत ने बनाया करोड़पति

42

बेशकीमती पत्थर (valuable stone)

कई बार ऐसा होता है कि हमारे पास कोई बेशकीमती चीज़ होती है, लेकिन हमें उसकी कीमत का ज़रा भी अंदाज़ा नहीं होता और उस मूल्यवान चीज़ को हम बहुत मामूली समझने की भूल कर बैठते हैं। अमेरिका के मिशिगन में भी एक शख्स ने ऐसा ही किया। 30 सालों तक ये शख्स एक पत्थर के टुकड़े से दरवाज़ा बंद करता रहा, लेकिन जब उसे उस पत्थर की असलियत पता चली तो उसके होश उड़ गए।

अमेरिका के मिशिगन का रहने वाला ये शख्स जिसे साधारण पत्थर समझकर 30 सालों तक अपने घर का दरवाज़ा बंद करता रहा वो कोई मामूली पत्थर नहीं था। 10 किलो का ये पत्थऱ एक उल्कापिंड है और इसकी कीमत करीब 1 लाख डॉलर (करीब 74 लाख) है। इस शख्स को यह पत्थर यानी उल्कापिंड गिफ्ट में मिला था। 1988 में जब उसने अपनी प्रॉपर्टी बेची थी तभी एक शख्स ने उसे ये पत्थर गिफ्ट किया था।

मिशगन उलकापिंड (michigan meteorite)

जिस शख्स ने ये उल्कापिंड गिफ्ट किया उसके मुताबिक, उसे यह पत्थर 1930 में खुदाई के दौरान एक खेत में मिला था, उस वक्त ये पत्थर काफी गर्म। जो शख्स पत्थर से दरवाजा बंद करता था अचानक उसे ख्याल आया कि क्यों न इस पत्थर की कीमत पता लगाई जाए। पत्थर की कीमत पता लगाने के लिए ये शख्स पत्थर को मिशिगन यूनिवर्सिटी ले गया। यहां जियोलॉजी की एक प्रोफेसर इसका साइज़ देखकर हैरान रह गई और तुरंत पत्थर का टेस्ट करने का फैसला किया।

जांच में पता चला कि इस पत्थर में 88% लोहा, 12% निकल और कुछ मात्रा में भारी धातुएं इरीडियम, गैलियम और सोना भी है। प्रोफेसर ने पत्थर का एक टुकड़ा वॉशिंगटन के स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूट भेजा, जहां से पता चला कि ये मामूली पत्थर नहीं, बल्कि एक उल्कापिंड है।

उल्कापिंड (meteorite)

इस उल्कापिंड का नाम एडमोर उल्कापिंड नाम रखा गया है, क्योंकि यह मिशिगन से 48 किमी दूर एडमोर स्थित माउंट प्लीसेंट के पास स्थित एक खेत में गिरा था जिस खेत को बेचने पर मिशिगन के शख्स को यह पत्थर उपहार में मिला था। फिलहाल इस उल्कापिंड का सैंपल जांच के लिए कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के प्लेनेटरी-साइंस डिपार्टमेंट भेजा गया है। यदि इस शख्स को उल्कापिंड की कीमत मिल जाती है, तो वो रातोरात करोड़पति बन जाएगा।