बड़ों की बातें

बेडरूम में बेशक कुछ नया करें ट्राय, लेकिन ये सावधानियां भी बरतें

तो आप दोनों ने अपनी सेक्स लाइफ़ में ताज़गी भरने के लिए कुछ नया ट्राय करने का मन बना लिया. आप सेक्स के किंकी यानी अजीबोग़रीब से लगनेवाले तरीक़े अपनाने जा रहे हैं. वाक़ई यह बोल्ड स्टेप है. वैसे आप ऐसा सोचने और करनेवाले अकेले जोड़े नहीं हैं. वर्ष २०१५ में अमेरिका में की गई एक स्टडी से यह बात सामने आई थी कि वहां लगभग आधे जोड़े सेक्स लाइफ़ में आई नीरसता को दूर करने के लिए ऐसा कुछ करने का निश्चय करते हैं. आमतौर पर किंकी सेक्स में बीडीएसएम, रोल प्ले आदि का समावेश होता है. आप दोनों इस बारे में नेट पर और सर्च कर लेना. उनमें से जो पसंद आए उसे आज़मा भी लेना, पर उसके पहले इन पांच बातों पर ग़ौर फ़रमाना.

१. यह भले अजीबोग़रीब है, पर इसे आज़माना पागलपन नहीं है
अगर आपको लगता है कि किंकी सेक्स करने के बारे में सोचना पागलपन है तो ऐसा नहीं है. इसे आप सेक्स करने के थोड़े अलग तरीक़ों के तौर पर देख सकते हैं, पर इसमें कुछ भी असामान्य या अप्राकृतिक जैसा कुछ नहीं है. यदि आप बावजूद इसके इसकी नैतिकता को लेकर संशय में हैं तो आपको पहले इस बारे में क़ायदे से पढ़ लेना चाहिए. आपका दिमाग़ जितना क्लीयर रहेगा, इसे आज़माने में आप उतना अधिक सहज महसूस करेंगे.

२. इसके लिए पार्टनर की सहमति बहुत ज़रूरी है
भले ही आप किंकी सेक्स के लिए पूरी तरह तैयार हों, पर अपने पार्टनर की इच्छा का सम्मान करना भी उतना ही ज़रूरी है. उसे बिस्तर पर अचानक सर्प्राइज़ देने से अच्छा होगा कि आप उससे इस बारे में खुलकर बात करें. उसे इन अपारंपरिक तरीक़ों के बारे में बताएं. हो सकता है उसे भी इसका आइडिया मज़ेदार लगे. पर इस बात की भी संभावना है कि वह मना कर दे. जो भी हो, पार्टनर की सहमति के बिना यह करना बिल्कुल भी सही नहीं होगा.

Things to Remember Before Trying Kinky Sex

३. बहुत अधिक जटिल न बनाएं
ज़रूरी नहीं कि आप किंकी सेक्स के अपने अनुभव को जटिल बनाएं. ऐसा करना अपने आप में थका देनेवाला अनुभव होता है. आपको इस सेक्स के लिए बहुत अधिक सामानों की नहीं, बल्कि इमैजिनेशन की ज़रूरत होगी. सिम्पल रोल प्ले, अंधेरे-उजालों के खेल और आंख मिचौली से बात बन सकती है.

४. क्या आप वाक़ई कंफ़र्टेबल हैं?
ख़ुद से पूछें, कि क्या आप सेक्स ऐक्टिविटीज़ में इतने एक्सपेरिमेंट्स को लेकर कंफ़र्टेबल हैं? अगर हैं तो भी अपनी बाउंड्रीज़ डिसाइड कर लें. बाउंड्री तय होने के बाद आप शारीरिक ही नहीं दिमाग़ी रूप से भी कंफ़र्टेबल हो जाएंगे और इस गतिविधि का भरपूर लुत्फ़ उठा पाएंगे, जो कि सबसे अधिक ज़रूरी है.

५. इस प्रक्रिया के बाद के केयर यानी आफ़्टर केयर को न भूलें
किंकी सेक्स आप दोनों को न केवल फ़िज़िकली थका देगा, बल्कि दिमाग़ी रूप से भी निचोड़ लेगा. इसलिए सेक्स के बाद आफ़्टर केयर की भी उतनी ही ज़रूरत होती है. यानी आप दोनों को एक-दूसरे का हाथ  पकड़ने, किसेस का आदान-प्रदान करने और बातचीत करने की ज़रूरत होगी. इससे आपसी प्यार बढ़ेगा.

Back to top button