बेटियों की शादी उनके गांव में कराने को योगी राजी, लेकिन ये शर्त होगी माननी

0
30

उत्तर प्रदेश सरकार सरकार की लाभकारी योजना मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में अब विवाह के इच्छुक जोड़ों को घर से दूर नहीं जाना पड़ेगा। कहने का तात्पर्य है कि अभी तक सामूहिक विवाह समारोह के लिए जनपद में जिला प्रशासन द्वारा स्थान चुना जाता है। इसकी वजह से कभी कभी दूर दराज से इच्छुक जोड़े व उनके पक्ष के लोग नहीं पहुंच पाते हैं, जिससे लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

हालांकि अब कानपुर देहात के किसी भी क्षेत्र में आस पास गांव के अगर 10 इच्छुक जोड़े मिलते हैं तो उनके विवाह समारोह के लिए समीप ही स्थान चुना जाएगा, जिससे उन जोड़ों को पहुंचने में दिक्कत का सामना न करना पड़े। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह में अब इस पहल से वर वधू पक्ष के लोगों को राहत मिलेगी।

प्रत्येक वर्ष होने वाले मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह में कई बार ऐसा होता है कि वर व वधू को समारोह स्थल तक पहुंचने में समस्या आने से वे नहीं पहुंच पाते हैं, जिससे विवाह नहीं हो पाता है। लेकिन अब प्रशासन गांव व घर के निकट ही सामूहिक विवाह का समारोह स्थल तय करेगा।

इसके लिए एक ही गांव या आसपास मजरे में 10 युवतियां शादी के लिए इच्छुक होनी चाहिए। जिसके बाद प्रशासन उनके समीप ही आयोजन स्थल चुनेगा। इससे बेटियों को समस्याएं भी नहीं होगी और उनके घर के समीप या गांव में ही अच्छी तरह विवाह संपन्न संपन्न होंगे।

जिला समाज कल्याण अधिकारी अनिल कुमार ने बताया कि 10 युवतियों के शादी के इच्छुक होने व एक ही गांव के होने पर विवाह समारोह का आयोजन गांव में ही किया जा सकेगा।