देश

बिहार में नर्तकी की हत्या पर सियासत गर्म, नीतीश से पूछे जा रहे ऐसे सवाल

कहने को तो बिहार में शराबबंदी है, लेकिन पुलिस की उपस्थिति में सोनबरसा में ना केवल शराब परोसी गयी बल्कि खुलेआम बंदूकें भी लहराई गयी. अपराधियों ने ताकत के नशे में सांस्कृतिक कार्यक्रम कर रही एक नर्तकी की सरेआम हत्या कर दी. इस हत्या के बाद सहरसा की सियासत गर्म हो गयी है. सत्ताधारी भाजपा और जदयू जहां खामोश है वहीँ रालोसपा ने मोर्चा सम्हाल लिया है और क़ानून व्यवस्था के सवाल पर राज्य सरकार को घेरा है.

कोसी प्रमंडलीय मुख्यालय सहरसा में प्रत्येक दिन किसी न किसी गांव और शहर में हत्या, भूमि विवाद एवं शराब का बड़ा कारोबार होने की घटना पुलिस, माफिया और अपराधी गठजोड़ का खुला उदाहरण है. इस गठजोड़ का खुलासा जिले के सोनबरसा राज के विराटपुर गांव में 20 फरवरी को हुआ.

एक शादी समारोह में अवैध हथियार एवं अवैध शराब माफियाओं ने खुलेआम कला के जरिये जीवन यापन करने वाली नर्तकी मधु की प्रोग्राम में गोली मारकर हत्या कर दी. इस घटना पर युवा रालोसपा के प्रदेश महासचिव शशांक सुमन विक्की ने कहा कि पार्टी इस घटना की पुरजोर निंदा करती है और सरकार से उच्चस्तरीय जांच की मांग करती है.

नर्तकी हत्याकांड को पुलिस दबाना चाह रही है. इस घटना के दिन शादी समारोह और कार्यक्रम में सहरसा के कई पुलिस अधिकारी भी शरीक थे. जिन्होंने अपनी आंखों से पूरी वारदात को जरूर देखा. भले ही घटना स्थल किसी दूसरे थाना का क्षेत्र हो लेकिन कानून पालक होने की हैसियत से इन्हें तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए. इतना ही नहीं इस घटना में छुट्टी पर रहने वाले दरोगा को निलंबित कर दिया जाना वरीय पुलिस पदाधिकारी की उदासीनता को दर्शाता है.

 

Back to top button