बिना मास्क के भीड़ और एक ही बर्तन से शराब, इस पादरी ने वो ही किया जो दिल्ली के मरकज में हुआ !

0
147

आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में स्थित रयावरम गाँव से रविवार को एक पादरी हिरासत में लिया गया. पादरी पर आरोप है कि उसने लॉकडाउन के बीच 100 से अधिक लोगों को एक जगह इकट्ठा कर प्रार्थना करवाई. ये कार्यक्रम इसाइयों के पवित्र सप्ताह शुरू होने से पहले आयोजित किया गया.

घटनास्थल पर रेड मारने वाले पुलिस का कहना है कि प्रार्थनास्थल पर इकट्ठा लोगों में से किसी ने भी मास्क नहीं पहना था. और सभी एक ही जार से शराब पी रहे थे. जिसे देखने के बाद पुलिस ने सभी एकत्रित हुए लोगों को उनके घर भेज दिया और बाद में पादरी को कस्टडी में लेकर उस पर कार्रवाई की.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पादरी की पहचान विजय रत्नम के रूप में हुई. इसके ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश देने की अवज्ञा) और 270 ( खतरनाक बीमारी फैलने की संभावना) के तहत एवं महामारी संबंधित अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज हुआ.

ये मामला उस समय सामने आया है जब फेडरेशन ऑफ तेलुगु चर्च (FTC) तक ने पिछले हफ्ते ये ऐलान किया था कि प्रशासन का साथ देते हुए चर्चों की सभी सभाओं को अगले आदेश तक रोक दिया गया है.