सेहत

बहती नाक को रोकने के रामबाण उपाय, चंद मिनटों में ज़ुकाम होगा छूमंतर

मनुष्य शरीर में बीमारियाँ होना आम बात है. लेकिन, कुछ बीमारियाँ ऐसी भी हैं जो लोगों का जीना हराम कर देती हैं. इन्ही में से ज़ुकाम भी एक इसी प्रकार का वायरस है. नाक बहना अच्छे खासे मनुष्य को परेशान कर देता है. ज्यादातर नाक बहने की समस्या तब पैदा होती है, जब साइनस और नाक की नालिकायों में बलगम जमा हो जाती है. इस बलगम के लगातार बढने से हमे सर्दी, जुकाम, फ्लू, एलर्जी आदि जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. कईं बार मौसम के बदलने से भी जुकाम की समस्या पैदा हो जाती है. ऐसे में इसके इलाज के लिए लोग तरह तरह की महंगी दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं.

आज हम आपको इस जुकाम से बचने के लिए कुछ ऐसे घरेलू उपाय बताने जा रहए हैं, जिनके इस्तेमाल से आपको ना केवल नाक के बहने से छुटकारा मिलेगा बल्कि आपकी थकान और कमजोरी भी दूर हो जाएगी.

तेल के इस्तेमाल से

इस दुनिया में ऐसे बहुत सारे आवश्यक तेल हैं जिनका इस्तेमाल करने से हम बहती नाक को रोक सकते हैं. इसके लिए आप तीन बूंद पेपरमेंट का तेल ले लें और इसमें 5 बूंद लैवेंडर का तेल मिला लें. दोनों तीनों को अच्छे से मिलाने के बाद आप इसे छाती, गर्दन और नाक के ऊपर अच्छे से लगा ले और मालिश करें. अब तेल को मरने के बाद से ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दे. इस उपाय को दिन में तीन बार दोहराने से आप को राहत मिलेगी. दरअसल पिपरमेंट तेल में मेंथोल पाया जाता है जो की शादी को डिकंजेक्ट करता है और बलगम को पतला कर देता है. ऐसे में बलगम आसानी से शरीर से बाहर निकल जाती है जुकाम से राहत मिलती है.

नमक का पानी

बहती नाक के लिए नमक का पानी भी रामबाण सिद्ध हो सकता है. इसके लिए दो कप गर्म पानी लें और उसमें एक या दो चम्मच नमक मिला लें. अब इस पानी को ड्रॉपर में डालकर इसे नाक में डाल लें. इस विधि को दिन में तब तक करते रहें जब तक आपको आराम ना मिल जाए. ऐसा करने से आपके नाक में मजबूत बलगम पतली हो जाएगी और आसानी से बाहर निकलेगी साथ ही इससे नाक की नलिकाओं में होने वाली इरीटेशन भी ठीक हो जाएगी.

भांप का इस्तेमाल

सर्दी जुकाम से बचने के लिए भाप सबसे उत्तम तरीका है. इसके लिए आप एक कटोरे में गर्म पानी ले और अपने सिर को तौलिए से लपेट कर उस पानी की भाप लें. इस प्रतिक्रिया को आप लगातार 10 मिनट तक दोहराते रहे जब तक बलगम को नाक से छिनक कर बाहर ना निकाल दे. ऐसा आप दिन में तीन से चार बार करें. दरअसल पानी की गर्माहट बलगम को पतला करती है और जीतने के साथ ही बलगम के निकास में आपकी मदद करती है.

लाल मिर्च

लाल मिर्च एक तरह से एंटीहिस्टामिन की तरह काम करती है और नाक से बलगम निकालने में हमारी सहायता करती है. इसके इलावा यह मिर्च हमारे शरीर में विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए हमारी मदद करती हैं. तो जब भी आप नाक बहने की समस्या से जूझे तो खाने में लाल मिर्च का प्रयोग जरूर करें.

गर्म चाय

कई बार सर्दी लगने के कारण भी नाक बहने लगती है ऐसे में आप गर्म चीजों का सेवन करें जैसे कि गर्म चाय बहती नाक के लिए रामबाण सिद्ध हो सकती है. इस चाय में हो सके तो आप अदरक, पुदीना आज का इस्तेमाल करें क्योंकि इसकी भांप आपकी बंद नाक को खोलेगी और बलगम को बाहर निकलेगी.

Back to top button