प्रियंका गांधी ने यूपी के लिए बनाया जो प्लान, वो कितना होगा कामयाब ?

0
67

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों को लेकर सभी छोटी बड़ी पार्टियों ने कमर कस ली है. देश की सबसे पुरानी और कुछ वक्त पहले तक सबसे बड़ी पार्टी रही कांग्रेस ने यूपी का चुनाव अकेले लड़ने का दावा किया है. माना जा रहा है कि कांग्रेस का अकेले चुनाव की घोषणा सिर्फ अपने निराश कार्यकर्ताओं को बूस्टअप करना है और भाजपा के मुकाबले अपनी खोई जमीन को जितना भी वापस मिल सकें, उसकी तैयारी करना है.

दरअसल उत्तर प्रदेश में कांग्रेस मृतप्राय है पर महासचिव प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी और उसके कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी बन गईं हैं. प्रदेश में मुद्दे पर प्रियंका का उत्साह देखकर कार्यकर्ता उत्साहित होते हैं. चुनाव के लिए अभी पूरे दो साल हैं प्रियंका अगर इसी ढंग से मुद्दों को लेकर लड़ती रही तो संभवत: आने वाले चुनाव में यूपी में कांग्रेस पुनर्जीवित हो जाए.

वैसे भी यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में साइकिल का साथ रास नहीं आया उसे सिर्फ सात सीटें ही मिलीं. कांग्रेस ने इन चुनावों में 114 स्थानों पर अपनी दावेदारी पेश की, पर मुंह की खानी पड़ी. कांग्रेस को 6.2 प्रतिशत वोट मिले. अगर बात वर्ष 2012 के चुनावों की बात करते हैं तो उस वक्त कांग्रेस ने 28 सीटों पर विजय प्राप्त की थी, कांग्रेस को 11.65 प्रतिशत वोट मिले थे.

शायद इसीलिए आगामी चुनाव में कांग्रेस अपनी हैसियत आंकना चाहेगी. वो बिना गठबंधन के लड़ने को तैयार है.