जरा हट के

पेट पर बन रही थी लाल रंग की लकीरें, जब जांच कराई तो पता चली होश उड़ाने वाली सच्चाई !

कई बार किसी वजह से हमारे शरीर पर छोटी-मोटी चोटें या खरोंच लग जाती है, जिसे हम अनदेखा कर देते हैं। लेकिन कई बार ये छोटी सी दिखने वाली खरोंच ही आपको बड़ी परेशानी में डाल देती है। कई बार इन छोटी खरोचों के जरिये हमारे शरीर में कई पैरासाइट भी घुस जाते हैं। जो हमारे शरीर को अन्दर ही अन्दर खोखला करने का काम करते हैं, क्योंकि ये जिन्दा रखने के लिए हमारे शरीर को अन्दर से खाना शुरू कर देते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ मामलों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें शरीर को अन्दर से खाते कीड़ों को बाहर निकाला गया था।

*- मकड़ी ने पेट में घुसकर किया ये हाल:

ऑस्ट्रेलिया के रहने वाले 24 साल के डायलन थॉमस के साथ 2014 में एक ऐसी घटना घटी, जिसने उन्हें अन्दर तक झकझोर कर रख दिया था। वो बाली घुमने के लिए गए हुए थे लेकिन जब वहां से वापस ए तो उन्हें पेट पर लाल रंग की धारियां दिखाई दे रही थी। जब उन्होंने डॉक्टर को दिखाया तो डॉक्टर ने इसे सामान्य कीड़े के काटने से होने वाला निशान बताया। लेकिन कुछ दिनों बाद जब उनके पेट में दर्द तेज होने लगा तो उन्होंने इसकी जाँच करवाई। जाँच के दौरान जो नतीजे सामने आये उसे जानकर इनके पैरों तले की जमीन ही खिसक गयी।

दरअसल थॉमस के शरीर में एक ट्रॉपिकल मकड़ी पल रही थी। डॉक्टर ने बताया कि हो सकता है किसी सर्जरी की वजह से शरीर में मकड़ी घुस गई हो। बाद में सर्जरी करके थॉमस की बॉडी से मकड़ी को निकला गया। हालाँकि कई मेडिकल एक्सपर्ट के अनुसार इंसान के शरीर में मकड़ी जीवित ही नहीं रह सकती है।

*- पैर में घुस गया कीड़ा:

एक बार यूनाइटेड किंगडम के रहने वाले मैथ्यू काम की वजह से अफ्रीका गए। लेकिन जब वो वापस आये तो वो अकेले नहीं आये। दरअसल उनके साथ एक कीड़ा भी आया। जानकारी के अनुसार उनके पैरों के अन्दर चिगो फ्ली नाम के कीड़े ने बच्चे दे दिए थे। मैथ्यू को अक्सर पैर के अन्दर कुछ चलता हुआ महसूस होता था। एक दिन उसने पैर के अन्दर एक छेड़ देखा। मैथ्यू ने समय ना गंवाते हुए तुरंत डॉक्टर को दिखाया। इसके बाद ऑपरेशन करके लार्वा को बाहर निकाला गया।

*- झनझना रहा था दिमाग:

अमेरिका के रहने वाले एरोन डलास बेलीज से छुट्टियाँ मनाकर जब वापस आये तो कुछ दिनों बाद ही उन्हें लगा कि उनके दिमाग में कुछ चल रहा है। जब उन्होंने इसके बारे में डॉक्टर को बताया और जांच करवाया तो पता चला कि उनके दिमाग में एक कीड़े ने अंडे दे दिए हैं। उससे निकले बच्चे ही दिमाग के अन्दर घूमते हैं। बाद में ऑपरेशन करके कीड़ों को बाहर निकाला गया।

Back to top button