राजनीति

पूरा बिहार पूछ रहा एक ही सवाल- नीतीश के सामने पीएम मोदी कैसे बोल गए ये ‘झूठ’ ?

रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार पहुंचे. ऐलान किए, जुमले उछाले और चले गए. कुछ ऐसी बातें भी कीं जो सरासर झूठ हैंलेकिन वहीं मौजूद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके इस झूठ पर सवाल तक खड़ा नहीं किया. पीएम ने बरौनी में सभा की. बिहार को कुछ तोहफे दिये. अपनी पीठ थपथपाई. नीतीश कुमार को दुलारा-पुचकारा. पुलवामा हमले का जिक्र कर भावनात्मक ब्लैकमेल भी किया. इसी दौरान झूठ बोल गए.

पीएम ने कहा कि राज्य में एक एम्‍स पटना में सुचारू रूप से काम कर रहा है और दूसरा एम्स बनाने का काम चल रहा है. प्रधानमंत्री के इस बयान पर अब विवाद शुरू हो गया है. दरअसल राज्य में दूसरे एम्स के निर्माण की घोषणा 2015 के बजट में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की थी लेकिन सच्चाई यही है कि इस एम्स का निर्माण कहां होगा इसकी न तो राज्य सरकार को जानकारी है और न ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस पर कोई फ़ैसला लिया है. विपक्ष अब इस पर सवाल उठा रहा है.

रालोसपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शंकर झा आजाद पूछते हैं कि पटना का एम्स यूपीए के कार्यकाल में शुरू हुआ था लेकिन दूसरे एम्स का दूर-दूर तक पता नहीं. प्रधानमंत्री बताएं के एम्स बन कहां रहा है.

इसी तरह की बात राजद नेता तेजस्वी यादव ने भी की है. उन्होंने तो नीतीश पर भी निशाना साधा है. तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री जी आप सफ़ेद झूठ बोल रहे है. लोगों को भ्रमित और झूठ बोलने का इतना साहस कहां से लाते है. कृपया आप बताए कि बिहार में यूपीए के कार्यकाल से काम कर रहे पटना एम्स के अलावा एक और एम्स बनाने का काम किस जिले में कहां और कब से चल रहा.

बता दें कि प्रधानमंत्री के भाषण के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया था और कहा था कि बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं की दृष्टि से आज एक ऐतिहासिक दिन है. छपरा और पुर्णिया में अब नए मेडिकल कॉलेज बनने वाले हैं, वहीं भागलपुर और गया के मेडिकल कॉलेजों को अपग्रेड किया जा रहा है. इसके अलावा, बिहार में पटना एम्स के अलावा एक और एम्स बनाने पर काम चल रहा है. जबकि यह सरासर गलत है.

 

 

Back to top button