पीएम का मास्टर-प्लान, सिर्फ 1 रुपये के बल पर जीतेंगे 1 चुनाव !

22

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग की तपिश के आगे आखिरकार मोदी सरकार भी झुक गई. लंबे समय से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में उतार-चढ़ाव निजी कंपनियों के हाथ में होने की बात कह रही मोदी सरकार ने अचानक एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर दी. इसके चलते पेट्रोल और डीजल में लगभग ढाई रुपए प्रति लीटर तक की कमी आई है. वहीं बीजेपी शासित अलग-अलग राज्यों में यह कटौती पांच रुपए प्रति लीटर तक पहुंची. लेकिन ऐसा नहीं है कि बीजेपी सरकार ने ये फैसला सिर्फ जनता के हित के लिए लिया है. दरअसल इसके पीछे एक दूर की कौड़ी है. वो मास्टरप्लान है जिसके जरिए 5 रुपए की कटौती में बीजेपी 5 चुनाव जीतना चाहती है. याने प्रति चुनाव एक रुपया का खर्च.

Loading...
Copy

साल के अंत तक पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनमें मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होने हैं. जाहिर है इन चुनावों के परिणाम का सीधा असर लोकसभा चुनाव 2019 पर भी देखने को मिलेगा.

इन सभी राज्यों में भाजपा की स्थिति पिछले चुनाव की तुलना में बेहद कमजोर है. ऐसे में पेट्रोल-डीजल की महंगाई को काबू कर सरकार अच्छे दिनों के संकेत देना चाहती है ताकि इसका मनोवैज्ञानिक लाभ लिया जा सके. चुनाव को देखते हुए अगले कुछ दिनों में और भी राहत मिल सकती है.

Loading...

याद दिला दें कि बीते कुछ दिनों में एक समय ऐसा भी आया जब खुद पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी आग उगलती कीमतों के आगे लगभग घुटने टेकते नजर आए थे. ऐसे में मोदी सरकार ने अचानक बड़ी कटौती का फैसला क्यों किया? अगर यह जनता को राहत देने के लिए ही होता तो इतना इंतजार नहीं किया जाता.

 

Loading...