नवरात्रि में आपको मिलेगा सच्चा प्यार, करना होगा ये बेहद आसान काम

0
51

कहते हैं जोड़ियाँ बनाना तो ऊपर वाले के हाथ में होता हैं. लेकिन कई बार आपको उपर वाले को याद दिलाना पड़ता हैं कि मैं अकेला हूँ, मुझे सच्चे प्यार की तलाश हैं या मुझे वो विशेष व्यक्ति ही अपने जीवन साथी के रूप में चाहिए. आपका दिल भी किसी ना किसी पे आया होगा लेकिन कई बार खराब किस्मत के चलते आपको उस विशेष व्यक्ति का प्यार नहीं मिल पाता हैं. लेकिन अब आप घबराइए नहीं आज हम आपको कुछ ऐसे टोटके बताएंगे जिनका प्रयोग करने से आपको अपना मनचाहा सच्चा प्यार मिल जाएगा.

इन दिनों चैत्र नवरात्री चल रही हैं. इन दिनों को शुभ माना जाता हैं. इन दिनों सारे रुके हुए काम पूर्ण होने के चांस ज्यादा रहते हैं. ऐसे में इन दिनों यदि आप ये टोटके करते हैं तो आपको कुछ ही दिनों के अन्दर सच्चा प्यार मिल जाता हैं.

मनचाहा प्रेमी पाने का उपाय

नवरात्री की सप्तमी को सुबह सूर्योदय से पहल उठकर दुर्गा माँ के मंदिर जाए. मंदिर में माता रानी के चरणों में आपको एक श्रीफल (नारियल) चढ़ाना होगा. इस नारियल को चढ़ाने के ठीक पहले अगरबत्ती की सहायता से अपने प्रेमी या प्रेमिका का नाम लिख दे. नारियल के ऊपर लिखा हुआ दिखना जरूरी नहीं हैं बस आपको उसके ऊपर अगरबत्ती चला कर नाम लिखना हैं. माता रानी आपकी मन की आखों से उस नाम को पढ़ लेगी.

नाम लिखने के बाद नारियल को फोड़ कर आधा मंदिर में चढ़ा दे और बाकी का आधा नारियल अपने साथ घर ले आए और उसी दिन उस नारियल को आप खा के ख़त्म कर दे. याद रहे दोस्तों यह नारियल आप ही को पूरा ख़त्म करना हैं इसे किसी और व्यक्ति को मत दीजिएगा.

सच्चा प्यार या जीवनसाथी पाने का उपाय

यदि आपके मन में कोई विशेष व्यक्ति नहीं हैं और आप चाहते हैं कि माता रानी खुद आपके लिए एक सच्चा जीवनसाथी ढूंढे तो यह उपाय अपनाए.

अपने घर के आस पास एक ऐसा पेड़ ढूंढे जो माता रानी के मंदिर के करीब हो. आपको उस पेड़ की हल्दी, सिंदूर से पूजा करनी होगी. इसके बात आखें बंद कर सच्चे मन से माता रानी से अपने जीवनसाथी की मांग करे और पेड़ पर एक नारंगी रंग का धागा बाँध दे. आप यह धागा पेड़ की किसी भी शाखा पर बाँध सकते हैं. इसके बाद ताम्बे के पात्र में भरा शुद्ध जल इस पेड़ पर चढ़ा दे. ध्यान रहे आपको पात्र का पूरा जल नहीं चढ़ाना हैं बल्कि आधा बचा के रखना हैं.

इसके बाद इस आधे जल से भरे पात्र को नंगे पैर माता रानी के मंदिर ले जाए. यहाँ जल को माता रानी के चरणों में समर्पित कर दे और इस जल की कुछ बुँदे अपने मस्तक और नेत्रों पर भी लगा ले. माता रानी ने चाहा तो जल्द ही आपको एक अच्छा जीवनसाथी मिल जाएगा.