उत्तर प्रदेश

नवमी के दिन खत्म हो गई एकादशी, लॉकडाउन में ही हुई थी कवयित्री की शादी

मेरठ. एक तरफ जहां महिलाओं को उत्पीड़न से बचाने के लिए योगी सरकार तमाम उपाय कर रही है। नवरात्रि में सरकार ने मिशन शक्ति अभियान की शुरुआत की है। इस बीच एक नव प्रतिभावान कवयित्री एकादशी त्रिपाठी ने गृह क्लेश के चलते सुसाइड कर लिया है। परिजनों का आरोप है कि पति के उत्पीड़न से परेशान होकर उनकी बेटी ने जान दी है। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। मृतक कवयित्री के परिजनों ने पति के खिलाफ सदर थाने में तहरीर दी है। एसओ सदर दिनेश चंद्र का कहना है कि मामले में जांच शुरू कर दी है।

दरअसल, रजबन बड़ा बाजार के रहने वाले रमाशंकर त्रिपाठी की कवयित्री बेटी एकादशी त्रिपाठी की शादी लॉकडाउन के दौरान 29 जून 2020 को जौनपुर निवासी अभिषेक तिवारी से हुई थी। अभिषेक मुंबई में किसी एमएनसी कंपनी में नौकरी करता है। परिजनों का आरोप है कि शादी के बाद से अभिषेक ने अतिरिक्त दहेज की मांग शुरू कर दी थी। मांग पूरी नहीं होने पर बेटी के साथ मारपीट की गई। परिजनों ने अभिषेक के अन्य अन्य युवतियों से अवैध संबंध के आरोप लगाए हैं।

उनका कहना है कि बेटी के विरोध करने पर जान से मारने की कोशिश भी की गई। इसलिए शादी के एक महीने बाद से ही वह मायके में रह रही थी और मानसिक रूप से काफी परेशान हो गई थी। जब परिजनों ने शनिवार सुबह कमरे का दरवाजा खोला तो बेटी फांसी के फंदे से लटकी थी। इसके बाद उन्होंने पुलिस को फोन कर घटना की जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।

कवियित्री एकादशी के भाई अंकित त्रिपाठी ने सदर थाने में अभिषेक के खिलाफ तहरीर दी है। एसओ दिनेश चंद्र ने बताया कि केस की जांच शुरू कर दी गई है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। कवयित्री एकादशी की मौत के बाद मेरठ में सोशल मीडिया पर कवियों ने कमेंटस किए हैं। कवियों ने लिखा है कि मेरठ की बेटी की आत्महत्या की सूचना ने हिला दिया है। वह कहानीकार, कवयित्री, सहज, सरल, स्वभाव की थी।

Back to top button