ख़बरगैजेट ज्ञान

देश में मंहगे हो सकते हैं स्मार्टफोन, जानिए इसका कारण

भारत में स्मार्टफोन यूजर्स की ​संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. कम कीमत और लेटस्ट फीचर के साथ लॉन्च होने वाले स्मार्टफोन के चलते ऐसा हुआ है. लेकन जल्द ही भारत में स्मार्टफोन के साथ स्मार्टवॉच के दाम बढ़ सकते हैं. माना जा रहा है कि डॉलर के मुकाबले लगातार नीचे तेजी से नीचे आते रुपया को मजबूती देने यह कदम उठाया जा रहा है. रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार भारत इलेक्ट्रॉनिक सामान और कम्यूनिकेशन डिवाइस पर इंपोर्ट टैरिफ बढ़ाने की तैयारी मे है.

रॉयटर्स ने टेक रिसर्च फर्म काउंटरपार्ट के नील शाह के हवाले को कोट किया है. उन्होंने कहा है, ‘यह फैसला ऑप्टिकल फाइबर और एलटीई वाले हाई स्पीड ब्रॉडबैंड की शुरुआत को धीमी करेगा यानी इसे पूरी तरह लोगों तक पहुंचने में पहले से ज्यादा समय लग सकता है’

इन्हें होगा नुकसान

हालांकि अभी यह जानकारी नहीं है कि इन प्रोडक्ट्स पर कितना उपकर वसूला जाएगा. लेकिन दो हफ्ते में ये दूसरी टैरिफ हाइक है. बताया जा रहा है कि टैरिफ हाइक से अमेरिका और चीन सहित दूसरे देशों से ट्रेड में असर पड़ सकता है. इससे न सिर्फ नेटवर्क प्रोडक्ट मेकर Samsung, Nokia, Sysco, Huave, GTE, Ericsson और Huawei जैसी कंपनियों पर असर पड़ेगा. बल्कि इससे Reliance Jio, Idea और Bharti Airtel  जैसी टेलीकॉम कंपनियों को भी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

प्रोडक्ट्स

सूत्रों के अनुसार भारत सराकर ने कुछ प्रोडक्ट्स लिस्ट किए हैं, जिन पर इसका असर पड़ेगा. इनमें स्मार्टफोन से लेकर स्मार्ट वॉच जैसे वियरेबल, वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (VoIP) प्रोडक्ट्स, फोन्स और इथरनेट शामिल है

सीमा शुल्क

यहां बता दें कि अप्रैल में मुख्य कॉम्पोनेंट्स के आयात पर 10 फीसदी टैक्स लगाया गया. कॉम्पोनेंट्स में पीसीबी शामिल है जिसे दूसरे देशों से आयात करके भारत में ऐसेंबल किया जाता है. उस समय रॉयटर्स की रिपोर्ट में बताया गया था कि किसी भी स्मार्टफोन में लगाया गया पीसीबी लगभग स्मार्टफोन की लागत का आधा हिस्सा होता है. वहीं वित्तीय बजट में स्मार्टफोन पर कस्टम ड्यूटी को 15 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी करने की घोषणा की गई थी. जिसके बाद भारत में आयात होने वाले ब्रांड के स्मार्टफोन पर 20 फीसदी सीमा शुल्क हो गई थी.

Back to top button