दिल्ली के सारे बॉर्डर हुए सील, सभी पड़ोसियों को क्यों इतना डरा रही राजधानी ?

0
45

17 हजार 386 कोरोना मरीज। 398 मौतें। दिल्ली में यह शुक्रवार दोपहर तक कोरोना की तस्वीर है। राजधानी दिल्ली अब डरा रही है। खौफ इस कदर है कि पड़ोसी दिल्ली के लिए अपने दरवाजे बंद कर चुके हैं। हरियाणा और उत्तर प्रदेश बॉर्डर सील हैं। दोनों राज्यों को डर है कि दिल्ली उनके शहरों नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद और गुड़गांव में कोरोना को बढ़ा देगी। बॉर्डर सील होने से दिल्ली-NCR में काम करने वाले लोग बेहाल हैं। नोएडा, गाजियाबाद के बाद शुक्रवार को बदरपुर और गुड़गांव बॉर्डर पर भारी जमा लगा। आखिर अपने पड़ोसियों को दिल्ली इतना क्यों डरा रही है, जानिए…

दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रेकॉर्ड, 17 हजार केस
पड़ोसी शहरों और राज्यों के डरने की वजह दिल्ली में तेजी से फैलता कोरोना है। राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1024 नए केस सामने आए हैं, जो एक दिन में सबसे ज्यादा है। इसी के साथ राजधानी में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 16 हजार 281 हो गई है। पॉजिटिव मरीजों के मामले में दिल्ली अब देश में तीसरे स्थान पर, गुजरात को पीछे छोड़ा।

दिल्ली में कब कितने केस

तारीख केस
28 मई 2020 1024
27 मई 2020 792
26 मई 412
25 मई 635
24 मई 508
23 मई 591

दिल्ली में मई की शुरुआत से ही कोविड के संक्रमण के तेजी देखी जा रही है। लेकिन पहली बार 19 मई को दिल्ली में एक दिन में 500 नए लोगों में संक्रमण पाया गया। उसके बाद से अब तक औसतन हर दूसरे दिन मरीजों की संख्या में उछाल देखा जा रहा है। 19 मई को 500, 20 मई को 534, 21 मई को 571, 22 मई को 660 तक पहुंच गया।

गुरुवार को दिल्ली में कुल कोविड पॉजिटिव मरीजों की संख्या 16,281 तक पहुंच गया है। 1024 मामले एक साथ आने से दिल्ली अब गुजरात को पीछे छोड़ते हुए संक्रमण के मामले में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। दिल्ली से अब महाराष्ट्र (59,546) और तमिलनाड़ (19,372) ही आगे है। गुजरात अब चौथे स्थान पर पहुंच गया, वहां पर अब 15,572 पॉजिटिव मरीज हैं। वहीं 50 पर्सेंट मरीज होम आइसोलेशन में हैं।

क्यों डरे हैं पड़ोसी राज्य
पहले बात करते हैं उत्तर प्रदेश की। राज्य ने गाजियाबाद और नोएडा के बॉर्डर को सील किया हुआ है। नोएडा का बॉर्डर लगातार 3 मई के बाद भी सील ही है। गाजियाबाद के बॉर्डर को कुछ दिनों के लिए खोला गया था, लेकिन फिर केसों की संख्या में इजाफे के बाद इसे दोबारा बंद कर दिया गया। ऐसा ही हरियाणा में किया गया। 15 मई को गुड़गांव, फरीदाबाद की सीमाएं खोलने का ऐलान किया गया। लेकिन अब शुक्रवार यानी आज से बॉर्डर फिर सील हैं।

जिला केस
गाजियाबाद 140
नोएडा 377
गुड़गांव 405
फरीदाबाद 276

नोएडा के डीएम सुहास एल. वाई हों या फिर हरियाणा के मंत्री अनिल विज, सबका कहना है कि दिल्ली की वजह से उनके यहां केस बढ़ रहे हैं। हरियाणा मंत्री अनिल विज ने कहा था कि गुड़गांव और फरीदाबाद में मिल रहे 80 प्रतिशत केसों का दिल्ली से लिंक है। शुरुआत में कुछ ऐसे केस मिले भी थे जिनका सीधा लिंक दिल्ली से था।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था, दिल्ली तैयार है
15 मई के बाद देशभर में जब लॉकडाउन में ढील दी गई तो दिल्ली सरकार ने भी उसी तरह की ढील दी। शराब के ठेके पहले से ही खोल दिए गए थे। इस दौरान केसों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती रही। इसका जिक्र अरविंद केजरीवाल ने अपने संबोधन में भी किया था। केजरीवाल ने केस बढ़ने की चिंता नहीं करने को कहा था, बोला था कि दिल्ली कोरोना से लड़ने को तैयार है। दिल्ली फिलहाल कोरोना से लड़ने को कितनी तैयार है यह बात अलग है, लेकिन फिलहाल इससे पड़ोसी राज्य खौफ में हैं और बॉर्डर सील से अब लोगों को दिक्कतें हो रही हैं।