थर्ड स्टेज पर बेतहाशा बढ़ जाता है कोरोना का खतरा, जानिए इसकी वजह

0
71

कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। कहा जा रहा है कि भारत अभी कोरोना संक्रमण के दूसरे स्टेज में है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर कोरोना तीसरे स्टेज में पहुंच जाता है तो खतरनाक हो सकता है। आइए ऐसे में जानते हैं आखिर तीसरे स्टेज में कोरोना खतरनाक क्यों होता है।

क्या है कोरोना का तीसरा स्टेज?
देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। अगर मामले इसी तरह से बढ़ते रहे तो संभावना जताई जा रही है कि कोरोना वायरस अपने तीसरे स्टेज पर पहुंच जाएगा। तीसरे स्टेज का अर्थ है सामुदायिक संक्रमण। तीसरे स्टेज में कोरोना का संक्रमण आम जनजीवन के बीच फैल सकता है।

मतलब इस स्टेज में सोर्स का पता नहीं होता है कि आखिर व्यक्ति कैसे कोरोना संक्रमण में आया। इसके साथ-साथ ये भी पता लगा पाना संभव नहीं होता है कि संक्रमित व्यक्ति कितने लोगों से मिला और फिर वो व्यक्ति कितने लोगों से मिला।

आईसीएमआर के अनुसार कोरोना वायरस फैलने के चार स्टेज हैं। जिसका तीसरा स्टेज सामुदायिक संक्रमण यानी कम्यूनिटी ट्रांसमिशन है। इसमें कोरोना वायरस के संक्रमण का सोर्स नहीं पता चलता, इसलिए हम उसे पकड़ नहीं सकते।

सामुदायिक संक्रमण में कोई व्यक्ति किसी ज्ञात कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए बिना ही इसका शिकार हो सकता है। कोरोना वायरस से संक्रमित देश की यात्रा किए बिना ही इसका शिकार हो सकता है. इस स्टेज में कोरोना का संक्रमण लोगों के बीच जाने-अनजाने फैलना शुरू हो जाता है।

तीसरे स्टेज से बचने का एक मात्र विकल्प है लॉकडाउन, जिसका पूरी तरह से पालन किया जाना चाहिए। लॉकडाउन की वजह से हर आदमी घर में बंद है। ऐसे में जो आदमी किसी संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में नहीं आया है वह कोरोना से सुरक्षित है।