जिंदगी

ट्रक ड्राइवर की इस बेटी ने किया वो काम, जो देश की हर बेटी के लिए बन गया मिसाल

ऊना जिला के एक छोटे से गांव नगनोली की बेटी प्रवीण लता हिमाचल प्रदेश में जज बनी है. प्रवीण लता के पिता एक ट्रक चालका व माता गृहणी है और इनके पति विवेक लखनपाल चंडीगढ़ हाईकोर्ट में वकालत करते हैं. प्रवीणल ता की इस उपलब्धि पर जिला में खुशी की लहर है. जज बनी प्रवीण लता ने हिमाचल प्रदेश ज्यूडिशियल सर्विस परीक्षा 2019 में दूसरा स्थान प्राप्त करके गांव व जिला का नाम रोशन किया है.

प्रवीण लता की प्रारंभिक परीक्षा राजकीय प्राथमिक व वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बढेड़ा राजपूतां में हुई. बारहवीं परीक्षा उत्तीर्ण करने के साथ ही इन्होंने जज बनने का लक्ष्य तय कर लिया. इस लक्ष्य को पार करने के लिए इन्होंने वर्ष 2008 में हिमकैप्स लॉ कालेज बढेड़ा में बीए एलएलबी की पढ़ाई शुरू की, वर्ष 2013 में एलएलबी की डिग्री प्राप्त की.

उसके बाद वर्ष 2015 तक दिल्ली के जिला कोर्ट में वकालत की व ज्यूडिशियल की परीक्षाएं देना शुरू कर दीं. अब हिमाचल प्रदेश न्यायिक परीक्षा में इन्होंने दूसरा स्थान पाया है.

सोमवार को सरकारिता के क्षेत्र में देशभर में चल रहे पहले हिमकैप्स लॉ एवं नर्सिंग संस्थान हिमकैप्स बढेड़ा में सम्मान समारोह आयोजित किया गया. जिसमें प्रवीणलता को हिमकैप्स संस्थान के चेयरमैन देशराज राणा व अन्य स्टाफ सदस्यों ने सम्मानित किया.

प्रवीण लता ने कहा कि जज बनना उनका लक्ष्य था, जो कि अब पूरा हो गया है. उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि के पीछे उनके पति विवेक खड़वाल, माता-पिता व हिमकैप्स संस्थान का विशेष योगदान रहा है.

Back to top button