कोरोना Vs दुनिया : वो टेस्ट जो तय कर सकता है इस जंग का नतीजा

0
76

नई दिल्‍ली
देश में कोरोना वायरस से कितने लोग इन्‍फेक्‍ट हुए हैं? क्‍या एसिम्‍प्‍टोमेटिक कैरियर्स घूम रहे हैं? क्‍या हम हर्ड कम्‍युनिटी के आंकड़े के करीब पहुंच चुके हैं? ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब मिलेंगे ‘नैशनल कोविड सेरो सर्वे’ से। पूरे देश के जिलों को चार कैटेगरी- जीरो, लो, मीडियम और हाई में बांटा गया है। हर कैटेगरी के कम से 15-15 जिले चुने जाएंगे। हर जिले से 10 रैंड क्‍लस्‍टर्स आइडेंटिफाई होंगे और घरों से सैम्‍पल लेने के लिए रैंडम स्‍टार्ट किया जाएगा। यानी करीब 60 जिलों के करीब 24,000 लोगों का टेस्‍ट होगा। इस टेस्‍ट के नतीजे बेहद अहम है। उनसे तय होगा कि भारत के लिए कोरोना से लड़ाई की दिशा क्‍या होगी।

क्‍या है एंटीबॉडी टेस्‍ट?
आपके खून के सैम्‍पल का एंटीबॉडी टेस्‍ट बड़ी अहम जाानकारी देता है। इससे आपके शरीर में एंडीबॉडीज का पता चलता है, जो बताती हैं कि आप वायरस के शिकार हुए थे या नहीं। एंटीबॉडीज दरअसल वो प्रोटीन्‍स हैं जो इन्‍फेक्‍शंस से लड़ने में मदद करती हैं। यानी जिन 24 हजार लोगों के सैम्‍पल लिए जाएंगे, उन्‍हें कभी कोरोना हुआ था या नहीं, ये पता लग जाएगा। सारे सैम्‍पल चेन्‍नई में स्थित नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ रिसर्च इन ट्यूबरक्‍यूलोसिस (NIRT) और ICMR-नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ एपिडेमियॉलजी (NIE) की लैब में भेजे जाएंगे। नतीजे मई के आखिर तक आ सकते हैं।

इस सर्वे से क्‍या हासिल होगा?
नैशनल सर्वे का मकसद है कि सभी जिलों में इन्‍फेक्‍शन का पता लगाना। टेस्टिंग के लिए पुणे के नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरॉलजी (NIV) की बनाई कोविड कवच एलिसा किट्स इस्‍तेमाल की जाएंगी। कोविड-19 के क्लिनिकल डायग्‍नोसिस के लिए रियल-टाइम RT-PCR टेस्‍ट होता है। मगर एंटीबॉडी टेस्‍ट इसलिए किया जा रहा है कि ताकि पता लग सके आबादी में कोरोना किस हद तक फैला है।

कैसे होगा पूरा सर्वे
हर जिले से 10 अस्‍पताल चुने जाएंगे, छह सरकारी और चार प्राइवेट। लो रिस्‍क और हाई रिस्‍क वाले दो पॉपुलेशन ग्रुप्‍स को एनलाइज किया जाएगा। इस पूरी कवायद में ICMR के 20 संस्‍थानों के अलावा राज्‍यों के हेल्‍थ डिपार्टमेंट्स की सर्विलांस टीम, वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) इंडिया के लोग होंगे। साथ ही नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC)-इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस की टीम भी होगी। 60 जिलों से सैम्‍पल जुटाने के बाद सबसे ज्‍यादा कोविड केसेज वाले 10 शहरों से के कंटेनमेंट जोन से भी सैम्‍पल कलेक्‍ट किए जाएंगे।

किस राज्‍य के कौन से जिले शामिल?

राज्‍य जिले
असम उदलगुरी, कामरूप मेट्रोपोलिटन, कार्बी आंगलोंग
आंध्र प्रदेश कृष्‍णा, नेल्‍लोर, विजयनगरम
बिहार मुजफ्फरपुर, पूर्णिया, बेगूसराय, मधुबनी, अरवल, बक्‍सर
छत्‍तीसगढ़ बीजापुर, कबीरधाम, सरगुजा
मध्‍य प्रदेश उज्‍जैन, देवास, ग्‍वालियर
महाराष्‍ट्र बीड, नांदेड, परभणी, जलगांव, अहमदनगर, सांगली
गुजरात महिसागर, नर्मदा, साबरकांठा
झारखंड लातेहार, पाकुर, सिमडेगा
कर्नाटक बेंगलुरु अर्बन, चित्रदुर्ग और कालबुर्गी
केरल पलक्‍कड़, एर्नाकुलम, थ्रिसूर
राजस्‍थान दौसा, जालोर, राजसमंद
तेलंगाना कामारेड्डी, जनगांव, नलगोंडा
उत्‍तर प्रदेश अमरोहा, सहारनपुर, गौतम बुद्ध नगर, बरेली, बलरामपुर, मऊ, औरैया, गोंडा, उन्‍नाव
पश्चिम बंगाल अलीपुर द्वार, बांकुड़ा, झारग्राम, 24 परगना दक्षिणी, मेदिनीपुर ईस्‍ट, कोलकाता

इसके अलावा पंजाब से दो जिले (गुरुदासपुर और जालंधर), उत्‍तरांखड से पौढ़ी गढ़वााल, हरियाणा से कुरुक्षेत्र, जम्‍मू-कश्‍मीर से पुलवामा और हिमाचल प्रदेश के कुल्‍लू को सैम्‍पल कलेक्‍शन के लिए चुना गया है।